Tue. Apr 23rd, 2024

भाजपा के प्रत्याशियों के नाम की घोषणा के बाद अब नजर है कांग्रेस के ऊपर, जितेंद्र सिंह का बयान सामने आया है

लोकसभा चुनाव के लिए कांग्रेस भी अपने प्रत्याशियों के नाम की जल्द ही घोषणा करने वाले हैं। केंद्रीय समिति की मीटिंग के दौरान पता चला है की पाँच–छह दिन में सरकार प्रत्याशियों के नाम सामने लाएगी।

प्रदेश महासचिव बयान आया सामने

भाजपा प्रत्याशियों के नाम सामने आ चुके है, और अब कांग्रेस के ऊपर नजर है की वह अपने प्रत्याशियों के नाम की कब घोषणा करेगी। इस मामले को लेकर रविवार को कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव और मध्यप्रदेश प्रभारी जितेंद्र सिंह का बयान सामने आया है। उन्होंने कहा है की उम्मीदवारों के चयन की प्रक्रिया लंबी है हम गांव–गांव जाकर लोगो से बात चीत करके प्रत्याशियों के नाम का चयन करेंगे।

जितेंद्र सिंह ने कहा है की भाजपा में सिर्फ मोदी जी और गृह मंत्री टिकट बाटते है, जिसको टिकट नहीं चाहिए होता है, उसको तब पता चलता है,तब उसका टिकट घोषित हो जाता है। हम सेंट्रल कमिटी की मीटिंग करके 5, 6 दिन के अंदर प्रत्याशियों के नाम की घोषणा करेंगे।

युवाओं और महिलाओं को बराबर का मौका मिलेगा

वही कांग्रेस के बड़े नेताओं के चुनाव लडने पर मध्यप्रदेश प्रभारी ने कहा है की अभी हम नाम नहीं रख सकते हैं, लेकिन उसमे सीनियर लीडर के साथ युवाओं, और महिलाओं सभी को बराबर का मौका दिया जाएगा। भारतीय जनता पार्टी ने छिंदवाड़ा से प्रत्यासी के नाम की घोषणा अभी तक नहीं की है।

जिस पर जितेंद्र सिंह ने कहा है की छिंदवाड़ा में बीजेपी ने नाम की घोषणा नहीं की है ये क्यू नही की है यह तो वही जाने लेकिन हम पिछले 40 सालो से हमेशा छिंदवाड़ा से सीट जीत रहे हैं।

खंडवा में बीजेपी प्रत्याशी ने अपने मुख्यमंत्री का तोड़ा नियम, पुलिस ने लिया जबरदस्त एक्शन

खंडवा: बीजेपी ने हाल में ही लोकसभा चुनावों के लिए अपनी पहली सूची जारी की है, खंडवा संसदीय क्षेत्र से वर्तमान सांसद (Member of parliament) ज्ञानशेश्वर पाटिल को दूसरी बार मौका दिया है। जिसके बाद समर्थकों रैली निकालकर आतिशबाजी की, वहीं डीजे वाहन की परमिशन ना होने पर पुलिस ने वाहन को जब्त कर लिया।

गृह नगर से खंडवा पहुँचे थे सांसद

बुरहानपुर से खण्डवा पहुँचे सांसद का समर्थकों ने स्टेशन पर स्वागत किया और घण्टाघर तक रैली निकाली। समर्थकों के हुजूम से नगर की ट्रैफिक व्यवस्था को देख रहे कोतवाली टीआई बलराम राठौड़ की नज़र जब डीजे वाहन पर पहुँची तो उन्होंने परमिशन मांगी तो ड्राइवर दे नहीं पाया , जिसके बाद उन्होंने वाहन को जब्त कर लिया।

मोहन सरकार ने ही जारी किए हैं नियम

अपने ही सरकार द्वारा जारी किए नियम के कारण सर्मथकों का उत्साह ठंडा पड़ गया। सरकार के बनने केबाद ही लाउड स्पीकर को लेकर सरकार ने नियम जारी किए थे जिसके आधार पर टीआई ने करवाई की। सीमित डेसिबल पर ही बजेगा, परीक्षा के समय पूर्ण रूप से प्रतिबंधित रहेगा।

पुलिस के आला अधिकारी बोलने से बचते दिखे

मामले को तूल पकड़ता देख अधिकारी किस तरह की करवाई की गई है इसे बताने से बचते दिखे। सूत्रों की माने तो इस करवाई से माननीय सांसद जी आहत हुए हैं परन्तु करें तो क्या अपनी ही सरकार के नियम में फस गए।

नाथूराम गोडसे को देशभक्त कहने वाली प्रज्ञा ठाकुर का लोकसभा चुनाव से कटा टिकट, पीएम मोदी और पार्टी को लेकर कही ये बड़ी बात

भारतीय जनता पार्टी ने लोकसभा चुनाव को लेकर बिगुल बजा दिया है। पार्टी ने दिल्ली में अपने लोकसभा चुनाव के उम्मीदवारों की पहली सूची कर दी है। जिसमें 195 उम्मीदवारों के नाम शामिल हैं। इनमें मप्र के भी 24 उम्मीदवार शामिल हैं। जिनमें विदिशा से शिवराज सिंह चौहान, गुना से ज्योतिरादित्य सिंधिया और भोपाल से आलोक शर्मा से दिग्गजों के भी नाम शामिल हैं। इस बार लोकसभा चुनाव से भोपाल की सासंद प्रज्ञा ठाकुर का नाम कट गया है। अब इसको लेकर उनकी प्रतिक्रिया सामने आयी है।

नमस्ते पीएम मोदी और पार्टी को लेकर कहा ये

साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने सूची जारी होने के अगले दिन से एक टीवी न्यूज चैनल से बात की। जहां उन्होंने अपने टिकट कटने को लेकर कहा, ”बीजेपी सिद्धांतों पर चलने वाला संगठन है और इसमें किसी तरह का सवाल नहीं होता है।पार्टी ने आलोक शर्मा को टिकट दिया है और ये मुझे सहज स्वीकर है।” उन्होंने कहा कि निश्चित रूप से आलोक शर्मा काम करेंगे और हम सब मिलकर उन्हें विजयी बनाएंगे।

इसके अलावा प्रज्ञा ठाकुर से सवाल किया कि क्या बयानों की वजह से आपका टिकट तो नहीं कटा? इस सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि ”मेरे द्वारा दिए गए बयान पर मैंने पीएम मोदी से माफी मांग ली थी, मेरा उद्देश्य उनका मन दुखाना नहीं था और मैंने दुखाया भी नहीं।”साध्वी प्रज्ञा ने आगे कहा ” ⁠मेरा सत्य बोलना विरोधियों और कांग्रेस के लोगों को खटकता है, और मेरी आड़ लेकर वो मोदी जी पर प्रहार करते हैं। मैंने जो कहा वो सत्य कहा लेकिन मीडिया ने उसे विवादित बयान कहकर मुद्दे को हवा दी इसी कारण उस बयान को इतना बल मिला। जब साध्वी प्रज्ञा से पार्टी छोड़ने या फिर आगे के राजनीतिक भविष्य को लेकर सवाल किया गया तो उन्होंने बताया कि “⁠मेरा पार्टी छोड़ने का कोई विचार नहीं है” “संगठन जो जिम्मेदारी मुझे देगा, मैं उसे निभाऊंगी और जहाँ मेरी ज़रूरत होगी। मैं वहां उपलब्ध रहूंगी।

नाथूराम गोडसे को देशभक्त कहा था

माना जा रहा है कि सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर को पीएम मोदी की नाराजगी का खामियाजा भुगतना पड़ा है. दरअसल, उन्होंने संसद में बयान देते हुए नाथूराम गोडसे को देशभक्त कहा था, जिससे उन्हें विपक्ष के साथ-साथ पार्टी के भीतर भी काफी आलोचनाओं का सामना करना पड़ा था. उनके इस बयान के बाद ही उन्हें रक्षा संबंधी कमेटी से हटा दिया गया था. पीएम मोदी ने भी साफ कर दिया था कि भले ही उन्होंने अपने इस बयान के लिए माफी मांग ली है, लेकिन वह कभी उनको माफ नहीं कर पाएंगे. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की नाराजगी अब साफतौर पर देखी गई और भारी मतों से जीतने के बाद बावजूद प्रज्ञा सिंह ठाकुर को भोपाल से उम्मीदवार नहीं बनाया गया।