Wed. Apr 24th, 2024

Result – राज्य शिक्षा केंद्र ने 5वीं और 8वीं का रिजल्ट किया जारी, जानिए संभावार परिणाम

इंदौर | राज्य शिक्षा केंद्र मध्य प्रदेश (आरएसकेएमपी) ने को एमपी बोर्ड कक्षा 5वीं, 8वीं के नतीजे घोषित कर दिए। पिछले साल, कक्षा 5 की परीक्षा में कुल 11,79,883 छात्र उपस्थित हुए थे। जिसमें 9,70,701 छात्र उत्तीर्ण हुए। जबकि, कक्षा 8 की परीक्षा में 10,66,405 छात्र उपस्थित हुए और 8,11,433 उत्तीर्ण हुए। आप अपना रिजल्ट rskmp.in पर जाकर अपना रिजल्ट देख सकेंगे।

कक्षा 5वी का रिजल्ट संभागवार

भोपाल संभाग में 90.18% बच्चे पास हुए. चंबल में 94.22, ग्वालियर में 9114, इंदौर में 94.31, जबलपुर 93.99, नर्मदापुरम 93.94, रीवा 89.12, सागर में सबसे कम 83.36, शहडोल में सबसे अधिक 94.74, उज्जैन संभाग में 88.21 बच्चे हुए पास हुए।

कक्षा 8वी का रिजल्ट इंदौर संभाग का रहा सबसे अधिक

भोपाल डिवीजन में 88.77%, चंबल में 90.28, ग्वालियर में 88.33, इंदौर में सबसे अधिक 92.80, जबलपुर 90.46, नर्मदापुरम 90.59, रीवा 83.79, सागर में सबसे कम 78.29, शहडोल 87.63, उज्जैन संभाग में 86.64% बच्चे पास हुए.

लाल बहादुर शास्त्री के बेटे ने BJP पर बोला जमकर हमला, कहा – ईडी, सीबीआई और इन्कम टैक्स डिपार्टमेंट देश के नहीं बल्कि BJP के डिपार्टमेंट है

इन दिनों लोकसभा चुनाव को लेकर पूरे देश में राजनीतिक पार्टियां जुटी हुई है। इन चुनाव में भाजपा (BJP) – कांग्रेस (Congress) दोनों ही पार्टियां एक-दूसरे पर जमकर हमला बोल रहे हैं। इसी बीच भोपाल में भारत के पूर्व प्रधान मंत्री लाल बहादुर शास्त्री के बेटे और पूर्व केंद्रीय मंत्री अनिल शास्त्री ने BJP सरकार पर जमकर हमला बोला। उन्होंने सोमवार को राजधानी भोपाल में प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि चुनाव आते ही BJP सरकार सरकारी एजेंसियों का दुरुपयोग शुरू कर देती है।

कांग्रेस 4 कैंडिडेट्स के खिलाफ लड़ रहे हैं

अनिल शास्त्री ने कहा कि सीबीआई, ईडी, इनकम टैक्स डिपार्टमेंट द्वारा विपक्ष के नेताओं को परेशान करवाया जा रहा है। पिछले कई वर्षों से यह हो रहा है। उन्होंने कहा कि चारों तरफ ऐसा लगने लगा है कि जो BJP के साथ हैं वह स्वच्छ है। जो विरोध में है वो भ्रष्ट है। कांग्रेस प्रत्याशी को एक प्रत्याशी के खिलाफ नहीं चार-चार कैंडिडेट से लड़ना पड़ता है। एक BJP का कैंडिडेट, दूसरा ईडी, तीसरा सीबीआई और चौथा इनकम टैक्स डिपार्टमेंट। इस तरह की लड़ाई बराबर की लड़ाई नहीं है।

BJP में शामिल होते ही सब आरोप हट जाते हैं

उन्होंने कहा कि लोकतंत्र की परिभाषा यह है कि जब चुनाव होता है तो बिल्कुल फ्री और फेयर होना चाहिए। चुनाव आयोग को हमने देखा किस तरह से कमिश्नर्स का अपॉइंटमेंट हुआ। एक इलेक्शन कमिश्नर जिनको इस्तीफा देने को कहा गया। उसके बाद उनके चहेते को कमिश्नर नियुक्त किया गया। उन्होंने कहा कि हिमाचल प्रदेश में कांग्रेस के कैंडिडेट को हराया गया। महाराष्ट्र में सरकार गिराकर BJP ने अपनी सरकार बनाई। अजीत पवार, छगन भुजबल, जिनके खिलाफ केसेस चल रहे थे। भाजपा में शामिल होते ही सारे मामले वापस ले लिए गए।

भतीजे हुए BJP में शामिल

शास्त्री ने भतीजे के भाजपा में शामिल होने पर कहा- उन पर एजेंसियों का प्रेशर नहीं था। विभाकर को ईडी का कोई फोन नहीं आया, न ही सीबीआई और इनकम टैक्स का फोन आया। शायद उनको ऐसा लगा कि कांग्रेस में उनका भविष्य नहीं है। काफी दिनों से उत्तर प्रदेश में लगे हुए हैं। जो उन्होंने किया वह गलत किया मैं उनका समर्थन नहीं करता।

कटनी में Crime Branch की टीम बनकर की लूट, लैपटॉप, मोबाइल सहित कई नगदी रूपये की लूट

अब तक आप crime Branch को चोरी करने वाले लुटेरे को पकड़ते हुए नजर आती थी लेकिन मप्र के कटनी में Crime Branch की टीम ने खुद एक मोबाइल शाॅप में जाकर लूट और दुकान में से मोबाइल, लैपटॉप सहित कई रूपयों की लूट की। मामले की शिकायत दर्ज होने पर पुलिस ने सभी आरोपियों को जबलपुर से गिरफ्तार किया है।

जानिए क्या था मामला

मामले का खुलासा करते हुए पुलिस अधीक्षक अभिजीत कुमार रंजन ने बताया कि 5 लोगों ने मिलकर कटनी के भरत बानवानी के घर में घुसे और मोबाइल, लैपटॉप सहित पैसे एक अकाउंट में ट्रांसफर कर लिए थे। आरोपियों ने परिवार के लोगों की बेदम पिटाई करते हुए 5 नग मोबाइल, 2 लैपटॉप सहित 49 हजार रुपए अपने एक साथी के अकाउंट में ट्रांसफर कर लिए थे और सभी को एक कमरे में बंद करके भागे निकले।

लूटेरे कर्ज में डूबे थे

पुलिस अधीक्षक ने बताया कि क्रिकेट सट्टे में कर्ज में डूबे होने के कारण इस डकैती की घटना को अंजाम दिया था। फिलहाल पुलिस ने पूरे मामले पर धारा 394, 450, 419, 342 सहित धारा 395, 120 बी के तहत मामला दर्ज कर आरोपी सचिन यादव, अंशु बावरिया, नमन श्रीवास्तव, चेतन विश्वकर्मा को गिरफ्तार कर न्यायालय के समक्ष पेश किया है।

LSG VS KKR : कोलकाता ने लखनऊ को IPL में पहली बार हराया, घर में दी 8 विकेट से शिकस्त

कोलकाता नाईट राइडर्स (KKR) ने IPL इतिहास में पहली बार रविवार को लखनऊ सुपरजाइंट्स(LSG) को 8 विकेट से हरा दिया। कोलकाता में खेले गए मुकाबले में LSG ने पहले बल्लेबाजी करते हुए निर्धारित 20 ओवर में 7 विकेट खोकर 161 रन बनाए। जवाब में केकेआर ने 15.4 ओवर में बड़ी आसानी से 2 विकेट खोकर इस लक्ष्य को हासिल कर लिया। इस मुकाबले में KKR की ओर से फिल साॅल्ट ने 47 गेदों में 89 रनों की नाबाद पारी खेली और टीम को जीत दिलाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

LSG नही बना सकी बड़ा स्कोर

मैच में घरेलू टीम KKR ने टाॅस जीतकर पहले गेंदबाजी करने का और मेहमान टीम को पहले बल्लेबाजी के लिए आमंत्रित किया। LSG की ओर से क्विंटन डी काॅक और कप्तान के एल राहुल ओपनिंग करने आए। लेकिन दोनों बल्लेबाज ने 19 रन जोड़े। इसके बाद डी काॅक ने 10 रन बनाकर आउट हो गए। इसके बाद दीपक हुड्डा कुछ खास नहीं कर सके और 8 रन बनाकर आउट हुए। इसके बाद बडोनी और के एल राहुल ने पारी को संभाला। दोनों ने 39 रन जोड़े।

इसके बाद के एल राहुल 39 रन बनाकर आउट हो गए। इसके बाद बडोनी 29 रन बनाकर आउट हो गए। टीम के लगातार विकेट गिरते रहे। अंत में निकोलस पूरन ने 32 गेदों पर 45 रनों की पारी खेली और टीम को 161 रन के सम्मानजनक स्कोर तक ले गए। वही केकेआर की ओर से मिचेल स्टार्क ने 3 विकेट हासिल किए।

KKR ने आसानी से हासिल किया लक्ष्य

जबाव में KKR की शुरुआत भी अच्छी नहीं रही। टीम की ओर से फिल साॅल्ट और सुनील नारायण ओपनिंग करने आए। नारायण ने पहले ओवर में अच्छी बल्लेबाजी की लेकिन वें दूसरे ओवर में 6 रन बनाकर मोहसिन खान का शिकार बने। इसके बाद अंगकृष ने भी कुछ शाॅट्स लगाने की कोशिश की। लेकिन वें भी मोहसिन की गेंद पर 7 रन बनाकर आउट हो गए।

इसके बाद कप्तान श्रेयस अय्यर बल्लेबाजी करने आए। उन्होंने पहले सधी बल्लेबाजी की और फिर कुछ बड़े शाॅट्स लगाए। दोनों ने मिलकर तीसरे विकेट के लिए 120 रनों की अविजित साझेदारी की। इस दौरान फिल साॅल्ट ने 47 गेदों पर 89 रनों की पारी खेली जबकि श्रेयस अय्यर ने 38 गेदों पर 38 रन की पारी खेली। दोनों ने टीम को 18.4 ओवर में चेस कर लिया और टीम को लखनऊ के खिलाफ आईपीएल इतिहास में पहली जीत दिलाई।

कांग्रेस ने अपने ही गढ़ में ऐसी मात खाई की 35 साल से अब तक चुनाव जीतने में विफल आजादी से ही कांग्रेस का गढ़ रहा

इंदौर लोकसभा क्षेत्र अब पूरी तरह से भाजपामय हो गया है, 1989 में पहली बार जीती सुमित्रा महाजन ने पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाशचंद्र सेठी को कड़ी शिकस्त दी थी, जिसके बाद ताई के नाम से मशहूर सुमित्रा महाजन 8 बार सांसद रही। वर्तमान में इंदौर लोकसभा क्षेत्र में आने वाली 9 विधानसभा भी भाजपा के कब्जे में है और 1983 में पहली बार इंदौर निगम जीतकर कांग्रेस का सफाया कर दिया।

देश एक मात्र शहर है इंदौर

मप्र के आर्थिक राजधानी कहे जाने वाले इंदौर शहर पूरे देश मे एक मात्र शहर ऐसा है जहाँ आईआईएम और आईआईटी दोनों ही मौजूद हैं। विश्वप्रसिद्ध दोनों संस्थानों की स्थापना कांग्रेस सरकार के कार्यकाल में ही गई। बीआरटीएस का प्रोजेक्ट भी यूपीए सरकार के समय शहर को मिला था, पर स्थानीय कांग्रेस नेताओं ने मुद्दा ना भुना पाने से नगर निगम तक हाथ से निकल गया।

कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष भी हार गए चुनाव

2023 विधानसभा चुनावों में जहाँ कांग्रेस दम लगा रही थी कि 18 साल की एन्टी इनकम्बेंसी है पर तत्कालीन मुख्यमंत्री शिवराज सिंह के द्वारा शुरू की गई योजना की लहर में लगातार अच्छे बहुमत से जीत रहे जीतू पटवारी को भी हार का सामना करना पड़ा जिसके बाद कांग्रेस इंदौर की सभी विधानसभा से वर्चस्व खत्म हो गया।विजयवर्गीय जहाँ गए वहाँ जीते इंदौर के कद्दावर नेता और वर्तमान सरकार में कैबिनेट मंत्री कैलाश विजयवर्गीय के लिए ऐसा कहा जाता है कि वे जिस विधानसभा से चुनाव लड़ ले उसके बाद वहां कांग्रेस चुनाव नहीं जीत पाती है, उन्होंने तीन नम्बर हो महू और इस विधानसभा क्रमांक 1 में लगातार कांग्रेस को प्रचंड बहुमत से हराया है।

अपने नेताओं की सुस्ती और कामों को जनता तक ना पहुचना पड़ा भारी

इंदौर के सामाजिक कार्यकर्ता शिवाजी मोहिते का कहना है कि इंदौर में कांग्रेस एक समय काफी मजबूत थी, लेकिन 1989 के बाद संगठन पर बड़े नेतागणों ने ध्यान नहीं दिया। कई सालों तक कार्यकारिणी घोषित नहीं होती थी, जबकि भाजपा ने वार्ड और बूथ स्तर पर संगठन खड़ा करने में मेहनत की। इंदौर में कई बड़े काम कांग्रेस सरकार की देन हैं, लेकिन चुनाव के समय कांग्रेस उम्मीदवार उसे भुना नहीं पाए।

Digital Arrest कर इंदौर के डॉक्टर दम्पत्ति से ठगे 8 लाख, जानिए क्या है Digital Arrest, कैसे करते हैं इस तरह का फ्रॉड

मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) के इंदौर (Indore) नई और बेहद हाईटेक ऑनलाइन ठगी का मामला इंदौर क्राइम ब्रांच (Crime Branch) में दर्ज हुआ है। इंदौर के राजेन्द्र नगर निवासी डॉक्टर दम्पति को ठगों ने वीडियो कॉल के जरिए 53 घंटे डिजिटल अरेस्ट (Digital Arrest) कर के रखा और बाद 8 लाख 36 हज़ार अपने खाते में ट्रांसफर करा लिए।

मुंबई CBI की स्काइप आईडी से आया था कॉल

डॉक्टर दम्पति ने बताया कि उन्हें मुम्बई सीबीआई स्काईप आईडी से वीडियो कॉल आई थी। कॉल पर ठगों ने कस्टम अधिकारी बताया और कहा कि इंटरनेशनल कुरियर कम्पनी के लिए पार्सल डिलीवर हुआ है। जिसमे एक लेपटॉप, 40 किलो कपड़े और एमडी एमए ड्रग जब्त हुई। फेक अधिकारी ने कहा कि इस डिलीवरी और कंपनी के जिस खाते में पैसे ट्रांसफर हुए हैं उसमें आपके आधारकार्ड और अन्य आईडी का प्रयोग हुआ है।

53 घंटे तक Digital Arrest रखा

ठगों ने कहा कि अभी आपके बयान लिए जाएंगे तो हमारे अधिकारी आपको एक वीडियो कॉल करेंगे जहाँ आपको अपने बयान दर्ज कराने होंगे। वीडियो कॉल वर्दी में ल सीबीआई अधिकारी और अन्य ऑफिसर दिखे जहाँ उन्होंने अलग अलग धाराओं में फ़साने को लेकर डराया। इसके बाद आरबीआई से एक कॉल आया तो डॉक्टर दम्पत्ति ने ठगों के एकाउंट में पैसे ट्रांसफर कर दिए।

क्या होता है Digital Arrest?

कानूनी तौर पर Digital Arrest नाम का कोई शब्द नहीं है। यह एक फ्रॉड करने का तरीका है,जो साइबर ठग अपनाते हैं। इसका सीधा मतलब होता है ब्लैकमेलिंग, जिसके जरिए ठग अपने टारगेट को ब्लैकमेल करता है। डिजिटल अरेस्ट में कोई आपको वीडियो कॉलिंग के जरिए घर में बंधक बना लेता है। वह आप पर हर वक्त नजर रख रहा होता है। डिजिटल अरेस्ट के मामलों में ठग कोई सरकारी एजेंसी के अफसर या पुलिस अफसर बनकर आपको वीडियो कॉल करते हैं। इसके बाद ठग आपको कहते हैं कि आपका आधार कार्ड सिम कार्ड या बैंक अकाउंट का इस्तेमाल किसी गैरकानूनी गतिविधि के लिए हुआ। वह आपको फर्जी गिरफ्तारी का डर दिखाकर घर में ही कैद कर देते हैं। इसके बाद वह झूठे आरोप लगाते हैं और जमानत की बातें कह कर पैसे ऐंठ लेते हैं। अपराधी इस दौरान आपको वीडियो कॉल से हटने भी नहीं देते हैं और ना ही किसी को कॉल करने देते हैं। डिजिटल अरेस्ट के इस तरह के कई मामले सामने आ चुके हैं।

साइबर ठगों को ट्रेस करना बहुत कठिन

हजारों किलोमीटर दूर बैठकर साइबर ठग आपको अपना शिकार बना लेते हैं। स्काइप आईडी, वीचैट और उन वीडियो कॉलिंग से आपसे संपर्क करते हैं ऐसे में पुलिस को 3 से 6 महीने तो आरोपियों का डाटा, यूआरएल जानकारी लेने के लिए समय लग जाता है। अधिकतर एप्लीकेशन्स के सर्वर विदेश में हैं, जहां से जानकारी जुटाने में पुलिस को कड़ी मशक्कत करना पड़ती है और कई महीनों तक जानकारी नहीं मिल पाती।

राहुल के महुआ बीनने पर बयानों की बौछारें तेज, सीएम मोहन के बयान पर PCC चीफ जीतू पटवारी ने दिया करारा जवाब,बोले – मोहन यादव पर्ची के CM हैं जनता के नहीं

राहुल गांधी के महुआ बीनने पर एमपी में सियासत कम होने का नाम नहीं ले रही है। अब PCC चीफ जीतू पटवारी ने भी सीएम डॉ. मोहन यादव के बयान को आदिवासियों के अपमान बताते हुए उनको माफी मांगने की बात कही। साथ ही उन्होंने कांग्रेस नेता राहुल गांधी को लेकर दिए गए बयान पर नाराजगी भी जाहिर की।

मोहन यादव पर्ची के CM हैं जनता के नहीं

लोकसभा चुनाव की तारीखे नजदीक है ऐसे में पार्टियां चुनावी प्रचार- प्रसार में जुटी हुई है। इस बीच सियासी बयानों का शोर भी तेज होता हुआ नजर आ रहा है। राहुल गांधी के ऊपर दिए बयान पर PCC चीफ जीतू पटवारी ने सीएम डॉ. मोहन यादव को घेरते हुए कहा कि उन्हें आदिवासी समाज से माफी मांगनी चाहिए। सीएम मोहन ने आदिवासियों का अपमान किया है। बीजेपी सरकार ने जो महंगाई गरीबों पर लादी है, उससे निजात पाने के लिए आदिवासी भाई बहन महुआ बीनते है। इससे उनकी रोजी-रोटी चलती है। साथ ही उन्होंने कहा कि मोहन यादव बार- बार बताते हैं कि वह पर्ची के सीएम हैं। जनता के चुने हुए मुख्यमंत्री नहीं हैं।

शहडोल दौरे पर थे PCC चीफ जीतू पटवारी

बुधवार को मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष जीतू पटवारी शहडोल दौरे पर थे। जहां उन्होंने लोकसभा प्रत्याशी फुन्देलाल सिंह के पक्ष में प्रचार किया। इस बीच उन्होंने अनूपपुर जिले के पुष्पराजगढ़ विधानसभा क्षेत्र के दमेहड़ी में जनसभा को संबोधित किया। जहां उन्होंने आदिवासी परंपरा के अनुसार ढोल-मांदल बजाया। इस दौरान PCC चीफ जीतू पटवारी ने मीडिया से चर्चा करते हुए सीएम को माफी मांगने की बात कहीं।

सीएम ने राहुल के महुआ बीनने पर दिया था बयान

गौरतलब है कि कांग्रेस नेता राहुल गांधी मध्य प्रदेश दौरे पर आए थे। तब उन्होंने रास्ते में जाते समय महुआ बीन रही आदिवासी महिलाओं से मुलाकात की थी, और तभी उन्होंने उनसे बात करते हुए महुआ का स्वाद भी चखा था। जिस पर मुख्यमंत्री मोहन यादव ने कहा था कि राहुल गांधी जबरदस्ती के नेता हैं उनका पिंड राजनीति नहीं है. उन्हें यदि महुआ खाना है, तो हम उनका स्वागत करते हैं।

BJP जिलाध्यक्ष पर आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन पर केस दर्ज, खुद शुभारंभ की फ़ोटो पोस्ट कर फंसे

मप्र के सिहोर में BJP युवा मोर्चा के जिलाध्यक्ष भूपेंद्र पाटीदार पर कांग्रेस पार्टी की शिकायत पर जिला कलेक्टर व निर्वाचन अधिकारी ने आचार संहिता के उल्लंघन का केस दर्ज किया। पाटीदार ने आचार संहिता लागू होने के बाद 20 मार्च को गेहूं खरीद केंद्र का शुभारंभ किया था जिसे जांच में सही पाया गया।

कांग्रेस नेता ने की शिकायत

कांग्रेस से जुड़े नेता पंकज शर्मा के अनुसार पिछले दिनों से लगातार सूचना मिल रही थी कि क्षेत्र में BJP के नेताओं द्वारा आचार संहिता का उल्लंघन किया जा रहा है। इसके बाद उन्होंने युवा मोर्चा के अध्यक्ष की शिकायत जिला कलेक्टर और निर्वाचन अधिकारी सीहोर से की थी।

जाँच में सही पाए गए तथ्य

शिकायत की जाँच करने पर सभी तथ्य सही पाए गए जिसके बाद अनुविभागीय दंडाधिकारी एवम सहायक रिटर्निंग अधिकारी तन्मय वर्मा के आदेश पर भूपेन्द्र पाटीदार पर आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन का मामला कायम किया।

दूसरी पर की शिकायत पर किया प्रकरण दर्ज

शर्मा ने कहा आचार संहिता के उल्लंघन की शिकायत 22 मार्च को जिला प्रशासन से की थी लेकिन उस शिकायत को खारिज कर दिया गया था, बाद सयुंक्त कलेक्टर को ज्ञापन दिया देने के बाद फिर 5 अप्रैल को शिकायत की गई । जिसके बाद प्रशासन ने तत्काल जांच के आदेश दिए थे जिसमें सभी आरोपों को सही पाया गया।कांग्रेस के नेता और पूर्व महासचिव पंकज शर्मा ने आरोप लगाया कि प्रशासन सरकार के दबाव में काम कर रहा है, इसीलिए हमारे द्वारा सभी तथ्य पेश करने के बाद अर्जी को खारिज कर दिया गया था, बाद में मीडिया में मामला आने केबाद प्रशासन ने कारवाही की है।

क्या होता है आचार संहिता का उल्लंघन?

लोकसभा चुनाव के लिए पूरे देश मे आदर्श आचार संहिता लागू है और आचार संहिता की नियमावली के अनुसार कोई भी जनप्रतिनिधि किसी भी तरह की नई योजना की शुरुआत नही कर सकते और ना ही सार्वजनिक उद्धघाटन कार्यक्रम नहीं कर सकते हैं। इसका उल्लंघन करने निर्वाचन अधिकारी द्वारा शिकायत की पुष्टि होने पर आरोपी पर केस दर्ज कर लिया जाता है।

CSK ने थमाई KKR को सीजन की पहली हार, घर में एकतरफा मुकाबले में 7 विकेट से दी शिकस्त

लगातार दो हार के बाद चेन्नई सुपर किंग्स (CSK) को सोमवार को पहली जीत मिली। टीम ने घर में खेलते हुए कोलकाता नाईट राइडर्स (KKR) को 7 विकेट से शिकस्त दी और एक आसान जीत दर्ज की। यह टीम की पांच मैचों में तीसरी जीत है जबकि केकेआर की चार मैचों में यह पहली हार है। चेन्नई सुपर किंग्स(CSK) की ओर से कप्तान रितुराज गायकवाड़ ने 67 रनों की नाबाद पारी खेली।

KKR नहीं बना सकी बड़ा स्कोर

मैच में घरेलू कप्तान रितुराज गायकवाड़ ने टाॅस जीतकर पहले गेंदबाजी करने का फैसला किया और KKR को पहले बल्लेबाजी के लिए आमंत्रित किया। CSK कप्तान के इस फैसले को तेज गेंदबाज तुषार देशपांडे ने सही भी साबित किया और पहली गेंद पर फिल साॅल्ट को गोल्डन डक पर लौटा दिया। इसके बाद अंगकृष रघुवंशी ने नंबर 3 पर आकर नारायण के 56 रनों की साझेदारी की। इस साझेदारी को रवींद्र जडेजा ने तोडा। उन्होंने अंगकृष को 24 और नारायण को 27 रनों पर एक ही ओवर में आउट कर पवेलियन लौटा दिया।

इसके बाद एक छोर कप्तान श्रेयस अय्यर खड़े रहे। लेकिन दूसरे छोर पर लगातार विकेट गिरते रहे और टीम के बल्लेबाज धीमी बल्लेबाजी करते रहे। श्रेयस अय्यर 32 गेदों पर 34 रन बनाकर आउट हुए। अंत KKR की टीम 20 ओवर में 9 विकेट खोकर 137 रन बनाए। सीएसके की ओर से तुषार देशपांडे और रवींद्र जडेजा ने 3-3 विकेट हासिल किए।

CSK ने आसानी से किया चेस

जवाब में CSK को कप्तान रितुराज गायकवाड़ और रचिन रवींद्र ने शानदार ओपनिंग की। दोनों ने 27 रनों की साझेदारी की। रचिन 15 रन बनाकर वैभव अरोड़ा का शिकार बने। इसके बाद डेरिल मिचेल और कप्तान गायकवाड़ ने 70 रनों की साझेदारी की और टीम की जीत नींव रखी। मिचेल 25 रन बनाकर नारायण का शिकार बने।

इसके बाद गायकवाड़ ने अपना अर्धशतक पूरा किया। उन्होंने शिवम दुबे के साथ तीसरे विकेट के लिए 38 रन जोड़े और टीम की जीत सुनिश्चित कर दी। दुबे 3 धमाकेदार छक्के के साथ 27 रन की पारी खेलकर आउट हुए। फैंस की शोर के बीच एम एम धोनी भी बल्लेबाजी करने आए। वें 1 रन बनाकर नाबाद रहे। कप्तान गायकवाड़ ने चौका लगाकर टीम को 7 विकेट जीत दिलाई। वें 67 रन बनाकर नाबाद रहे।

राहुल गांधी के दौरे से पहले हुई बड़ी लापरवाही, कांग्रेस के मंच पर BJP नेता फग्गन सिंह कुलस्ते की लगी फोटो, CM ने ली चुटकी

लोकसभा के चुनाव होने में कुछ ही समय बचा है। सभी पार्टियां चुनावी प्रचार-प्रसार में जुटी हुई है 19 अप्रैल को एमपी के मंडला समेत 6 सीटों पर पहले चरण के चुनाव होने है जिसके प्रचार अभियान में कांग्रेस के केंद्रीय नेता जुटे हुए है। कांग्रेस नेता राहुल गांधी एमपी में चुनाव अभियान की शुरुआत 8 अप्रैल को सिवनी जिले की धनौरा से करेंगे। हालांकि उनके दौरे से पहले कांग्रेस समर्थकों की बड़ी लापरवाही सामने आई है। जिस पर बीजेपी तंज कसती हुई नजर आ रही है।

कांग्रेस के मंच पर BJP नेता फग्गन सिंह कुलस्ते की लगी फोटो

भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी इन दिनों एमपी दौरे पर हैं। वह आज सिवनी जिले से चुनाव प्रचार अभियान की शुरुआत करेंगे। जहां राहुल गांधी सबसे पहले लखनादौन विधानसभा के धनोरा गांव में जनता को संबोधित करेंगे। कांग्रेस के राष्ट्रीय नेता राहुल गांधी के आगमन पर प्रशासन ने भी सुरक्षा को लेकर चाक चौबंद व्यवस्थाएं की है लेकिन इस दौरान कांग्रेस नेताओं से एक बड़ी चूक हो गई।

केंद्रीय मंत्री का लगाया फोटो

दरअसल पूरा मामला राहुल गांधी की रैली से एक दिन पहले का है। जहां मंच पर मुख्य बैनर लगाया गया जिसमें कांग्रेस के दिग्गजों की फोटो लगाई गई, लेकिन इसी बैनर में बीजेपी के केंद्रीय मंत्री और प्रत्याशी फग्गन सिंह कुलस्ते की तस्वीर भी लग गई। जिसे कार्यकर्ताओं ने तुरंत ढकने का काम किया। और बाद में उस तस्वीर पर कांग्रेस विधायक रजनीश हरवंश सिंह की फोटो को चिपका दिया गया।

लोकसभा चुनाव को लेकर कांग्रेस गंभीर नहीं

कांग्रेस के मंच पर बीजेपी प्रत्याशी की तस्वीर को लेकर सीएम डॉ. मोहन यादव ने तंज कसा। उन्होंने कहा कि लोकसभा चुनाव को लेकर कांग्रेस गंभीर नहीं है ।लग रहा है कि कांग्रेस ने चुनाव से पहले ही हार मान ली है। साथ ही उन्होंने कहा कि कांग्रेस, अपनी पार्टी और समर्थकों का मजाक बना रही है, जिस पार्टी के मंच पर उनके प्रत्याशी का फोटो लगाना चाहिए, वहां उनकी फोटो के बजाय बीजेपी के प्रत्याशी का फोटो लगाया जा रहा हैं। संजना मौर्या