Sat. Jun 15th, 2024

चुनावी बांड्स पर राहुल गांधी ने दिया बड़ा बयान, ‘जबरन वसूली रैकेट’ और राष्ट्र-विरोधी गतिविधि बताया

इन दिनों चुनावी बांड्स को लेकर पूरे देश में चर्चा का विषय बना हुआ है। सुप्रीम कोर्ट की फटकार के बाद एसबीआई ने चुनावी बांड्स की जानकारी जारी की। इसके बाद आज भारत जोड़ो न्याय यात्रा में कांग्रेस के दिग्गज नेता राहुल गांधी ने बड़ा बयान दिया है। कांग्रेस नेता एवं वायनाड से सांसद राहुल गांधी ने चुनावी बॉन्ड को प्रधानमंत्री कार्यालय का सबसे बड़ा घोटाला करार दिया है। उन्होंने इसे केंद्रीय एजेंसियों की मदद से भाजपा को लाभ पहुंचाने वाला ‘जबरन वसूली रैकेट’ बताया और इसे राष्ट्र-विरोधी गतिविधि भी करार दिया।

भ्रष्टाचार और घोटाले का बड़ा उदाहरण

राहुल गांधी ने ‘भारत जोड़ो न्याय यात्रा’ के अंतिम दिन एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि इससे बड़ी कोई राष्ट्र-विरोधी गतिविधि नहीं हो सकती है। बकौल राहुल गांधी, केंद्रीय जांच ब्यूरो (CBI), प्रवर्तन निदेशालय (ED) और इनकम टैक्स विभाग जैसी केंद्रीय एजेंसियां बीजेपी-आरएसएस के हाथ का हथियार बन गई हैं।

चुनावी बॉन्ड को दुनिया में भ्रष्टाचार और घोटाले का सबसे बड़ा उदाहरण बताते हुए उन्होंने कहा कि यह कंपनियों को डराने और उनसे पैसे लेने का एक तरीका है। यह एक बहुत बड़ी चोरी हो रही है, जो पूरी तरह से प्रधानमंत्री द्वारा आयोजित की गई है।

राहुल ने भाजपा पर लगाए गंभीर आरोप

उन्होंने आगे विस्तार से बताते हुए कहा कि कंपनियों पर ईडी, आईटी और सीबीआई के छापे पड़ते हैं और कुछ दिनों के बाद वे कंपनियां चुनावी बॉन्ड के माध्यम से भाजपा को चंदा देती हैं। कंपनियों को ठेका मिलता है और कुछ दिनों के बाद वे चुनावी बॉन्ड के माध्यम से भाजपा को ‘कट’ देती हैं। यह कंपनी से कॉन्ट्रैक्ट का हिस्सा लेने और हफ्ता लेने का एक साधन है।

नौकरशाहों और जांच एजेंसियों के शीर्ष अधिकारियों को चेतावनी देते हुए पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि किसी दिन भाजपा सरकार हटा दी जाएगी और फिर इन अधिकारियों को दंडित किया जाएगा और सजा ऐसी होगी कि कोई कभी ये काम करने के बारे में सोचेगा भी नहीं। यह मेरी गारंटी है। उन्होंने कहा कि शिवसेना और राकांपा जैसी राजनीतिक पार्टियों को पैसे का इस्तेमाल करके तोड़ा जा रहा है। यह पैसा कहां से आया है? उन्होंने कहा कि सीबीआई और ईडी जांच नहीं कर रहे हैं। वे जबरन वसूली कर रहे हैं। राजनीतिक दलों को भाजपा और अमित शाह तोड़ रहे हैं और पूरा महाराष्ट्र जानता है कि इसके लिए पैसा यहीं से आया है।