Wed. Apr 24th, 2024

इंदौर की साड़ी वॉकथॉन में हुआ बड़ा खेला, 5 हजार महिलाओं को 40 हजार बताकर दर्ज कराया झूठा विश्व रिकॉर्ड

इंदौर। वीमेंस डे के एक दिन पहले इंदौर के नेहरू स्टेडियम में शहर की महिलाओं के लिए जिला प्रशासन और प्रदेश की सरकार के द्वारा साड़ी वॉकथॉन का आयोजन किया गया। इस वॉकथॉन में 25 हजार महिलाओं के पहुंचने का दावा किया गया था लेकिन इस वॉकथॉन में शामिल होने के लिए 5 हजार महिलाएं पहुंची। वें वॉकथॉन शुरू होने के पहले ही समोराह से चली गई। वॉकथॉन शुरू होने तक मुश्किल से 200 महिलाएं बची। लेकिन इन सबके बावजूद इंदौर ने बड़ा खेला कर 40 हजार महिलाओं का साड़ी वॉकथॉन का रिकॉर्ड बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड में दर्ज कराया। आईये जानते है इस पूरे खेला के बारे।

सीएम के आने तक 200 महिलाएं बची

दरअसल महिला वॉकथॉन का समय शाम 4.30 बजे का रखा गया था। शहर की काफी महिलाएं भी पहुँची। समोराह की शुरुआत भी हो गई। शाम के 6 बजे तक नेहरू स्टेडियम में 5000 हजार से ज्यादा महिलाएं पहुंच गई। इसी समय सीएम का आने का समय था लेकिन सीएम शहडोल में उल्टी हवा चलने के कारण लेट हो गए।

सीएम का इंतजार करते-करते नेहरू स्टेडियम में से महिलाओं का जाना शुरू हो गया। आखिरकार रात 8:25 पर सीएम नेहरू स्टेडियम पहुंचे। उस समय मुश्किल से 200 महिलाएं बची थी। उनमें भी आम महिलाएं कम थी अधिकांश महिलाएं बीजेपी कार्यकर्ता या पूर्व पार्षद की सहयोगी थी।


सीएम को सौंपा झूठा विश्व रिकॉर्ड

सीएम ने रात 8:40 पर साड़ी वॉकथॉन को हरी झंडी दिखाई लेकिन उस समय तक केवल 200 महिलाएँ ही बची थी। लेकिन इन सबके बाबजूद सीएम को मंच पर मौजूद विधायक, सांसद और बीजेपी नेताओं के द्वारा 40 हजार से ज्यादा महिलाएँ बताई गई। जबकि इतनी महिलाएं तो पूरे समोराह में नहीं पहुंची। लेकिन फिर भी सीएम को 40 हजार महिलाओं की साडी वॉकथॉन आयोजित करने के लिए वर्ल्ड बुक रिकॉर्ड में नाम दर्ज कराया। इसी बीच सवाल उठता है कि सरकार और प्रशासन ने ये झूठा खेल क्यों खेला। क्या इंदौर जैसे ऐतिहासिक और जुझारू शहर को ऐसे झूठे अवार्ड की जरूरत है।

इस दौरान सांसद शंकर लालवानी, सांसद कविता पाटीदार,विधायक महेंद्र हार्डिया, विधायक एवं जल संसाधन मंत्री तुलसी सिलवाट, विधायक रमेश मेंदोला, विधायक गोलू शुक्ला, बीजेपी नगर अध्यक्ष गौरव रणदिवे, निगमायुक्त हर्षिका सिंह मौजूद थे।