Tue. Apr 23rd, 2024

क्या लोकसभा चुनाव लड़ने में नेताओं की दिलचस्पी नहीं?जानिए क्यों हो रहा कांग्रेस की दूसरी लिस्ट आने में विलंब

आगामी लोकसभा के चुनाव के लिए नामांकन पत्र भरे जाने का क्रम शुरू हो गया है, लेकिन कांग्रेस अब तक सभी सीटों के लिए उम्मीदवारों के नाम तय नहीं कर पाई है। बड़ी वजह पार्टी के भीतर दिग्गज नेताओं को चुनाव लड़ाने को लेकर छिड़ा संग्राम है बताया जा रहा है। राज्य में लोकसभा की 29 सीटें हैं, जिनमें से कांग्रेस को 28 पर उम्मीदवार तय करना है। एक खजुराहो संसदीय सीट आपसी समझौते में समाजवादी पार्टी को दी गई है इन 28 सीटों में से कांग्रेस 10 पर ही उम्मीदवार तय कर पाई है और उसे अभी 18 सीटों पर उम्मीदवारों के नाम का फैसला करना है।

लोकसभा चुनाव लड़ने में नेताओं की दिलचस्पी नहीं

सूत्रों की मानें तो कांग्रेस के पास जमीनी स्तर से जो फीडबैक आया है उसके मुताबिक, दिग्गज नेता दिग्विजय सिंह, अजय सिंह, अरुण यादव, उमंग सिंघार, जयवर्धन सिंह, प्रियव्रत सिंह, जीतू पटवारी, विवेक तंखा जैसे नेताओं के चुनाव लड़ाने की बात कही गई है। वहीं इन नेताओं में से कई ऐसे हैं जो कह चुके हैं कि लोकसभा चुनाव लड़ने में उनकी दिलचस्पी नहीं है। कांग्रेस के अंदर दिग्गज नेताओं को चुनाव लड़ाने को लेकर चल रहे मंथन और दिग्गजों द्वारा चुनाव लड़ने में की जा रही आनाकानी के चलते ही उम्मीदवारों की सूची को अंतिम रूप नहीं दिया जा सका है। खबरें हैं कि कई वरिष्ठ नेता लोकसभा चुनाव लड़ने में दिलचस्पी नहीं दिखा रहे हैं।

कुछ विधायकों को भी मैदान में उतारा जा सकता है

कांग्रेस कुछ विधायकों को भी मैदान में उतारने का मन बना रही है। संभावना इस बात की भी जताई जा रही है कि कांग्रेस हाई कमान दिग्गज नेताओं से सीधे बात करेगा और उसके बाद ही केंद्रीय चुनाव समिति की अगली बैठक में नामों पर मुहर लगा सकती है।

इंदौर के इस विधायक ने राहुल गांधी को दी खुली चुनौती, कहा – दम हो तो यहां से चुनाव लडो

इंदौर (Indore): मध्यप्रदेश के आर्थिक राजधानी इंदौर के विधानसभा क्रमांक 2 से निर्वाचित भाजपा विधायक रमेश मैंदोला ने अपने एक्स हैंडल पर पोस्ट कर, कांग्रेस (Congress) नेता और वायनाड से सांसद राहुल गांधी को चैलेंज किया है कि इस बार वे इंदौर लोकसभा से चुनाव लड़ें अगर दम है तो और अगर वे ऐसा करते हैं तो मैं उन्हें एक गिफ्ट दूँगा।

एक्स हैंडल पर कहा जीतू को ना बनाए बलि का बकरा

चार बार के बीजेपी विधायक रमेश मेंदोला ने सोमवार को ‘एक्स’ पर एक पोस्ट कर एक समाचार क्लिप साझा की जिसमें अटकलें लगाई जा रही हैं, कि प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष जीतू पटवारी इंदौर लोकसभा सीट के लिए विपक्षी दल की पहली पसंद हैं। बीजेपी विधायक ने कहा, ‘प्रिय कांग्रेस आप बेचारे जीतू पटवारी को क्यों बलि का बकरा बना रहे हैं। मेरा आग्रह है कि उनकी जगह आप इंदौर से राहुल गांधी को टिकट दीजिए।

7 लाख की वोट का उप’हार’ देने का वादा

भाजपा ने वर्तमान सांसद शंकर लालवानी पर ही विश्वास जताया है, ऐसे में कांग्रेस ने अभी तक अपने उम्मीदवार का चयन ना कर पाने के कारण विधायक ने जम्मकर हमला बोला है। विधायक मेंदोला ने आगे लिखा, ‘हमारा इंदौर पीएम मोदी का परिवार है। यह परिवार राहुल गांधी को कम से कम सात लाख वोट की ‘हार’ का उपहार देकर विदा करेगा। यह अहंकार नहीं विश्वास है।’

कौन है दादा दयालु के नाम से मशहूर विधायक

पूरे मध्यप्रदेश में दादा दयालु विधायक के नाम से मशहूर रमेश मैंदोला इंदौर जिले की विधानसभा क्रमांक 2 से चार बार के विधायक हैं। पूरी विधानसभा क्षेत्र बल्कि पूरे इंदौर में वे अपने कार्यों के लिए जाने जाते है। 2023 विधानसभा चुनाव में भी प्रदेश में 1 लाख से ज्यादा वोटों से जीत दर्ज की थी, जो कि प्रदेश में सबसे बड़ी जीत है।

MP के सीएम यादव का दावा राहुल भारत जोड़ो नहीं पार्टी तोड़ो यात्रा पर निकले, मप्र में 50000 कार्यकर्ता छोड़ सकते हैं कांग्रेस

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री मोहन यादव का चुनाव घोषणा के बाद एक बड़ा दावा किया है, उन्होंने कहा कि कांग्रेस में पार्टी छोड़ो की भगदड़ मच गई है। उन्होने कंहा कि पार्टी के लोग लगातार कांग्रेस छोड़ रहे हैं और कांग्रेस के तकरीबन 50000 कार्यकर्ता अलग-अलग क्षेत्रों से पार्टी छोड़ने के लिए तैयार हैं।

भोपाल। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री मोहन यादव चुनावी अंदाज में नज़र आने लगे हैं, कांग्रेस पर हमला बोलते हुए कहा कि राहुल जी भारत जोड़ो यात्रा पर नहीं कांग्रेस छोड़ो यात्रा पर निकले हैं। उन्होने कंहा कि पार्टी के लोग लगातार कांग्रेस छोड़ रहे हैं और कांग्रेस के तकरीबन 50000 कार्यकर्ता अलग-अलग क्षेत्रों से पार्टी छोड़ सकते हैं। उन्होने कंहा कि आने वाले समय में कांग्रेस की स्थिति क्या होगी, इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है, क्योंकि कांग्रेस छोड़ो अभियान चल पड़ा है।

शीर्ष नेताओं की क्षमता पर उठाए सवाल

मुख्यमंत्री मोहन यादव ने राहुल गांधी पर हमला बोलते हुए कहा कि कांग्रेस में नेतृत्व की कंमी है। कांग्रेस के वरिष्ठ जनों को जो सम्मान मिलना चाहिए वह नहीं मिल रहा है। कांग्रेस में पार्टी के लोगो का सम्मान नही है यही वजह है कि लोगो का मोह भंग हो रहा है।

सभी 29 सिंटे जीतकर मोदी जी को मजबूत करेंगे

मुख्यमंत्री मोहन यादव ने कहा इस बार मध्य प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी पूरा परचम लहराते हुए 29 की 29 सीटों पर जीत दर्ज करेंगे। उन्होंने कहा कि अच्छे कामों से मोदी जी का देशवासियों पर भरोसा कायम है। 2024 के चुनाव नतीजा भी मोदी जी के साथ हैं और वें एक बार फिर जीत रहे।

पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान ने राहुल गांधी पर जमकर बोला हमला, भारत जोड़ो यात्राओं को बताया विफल यात्रा

लोकसभा चुनाव की तारीखें घोषित हो गई है। इसी के साथ सभी उम्मदीवारों और प्रत्याशियों ने चुनाव को लेकर अपनी तैयारियां भी शुरू कर दी है। इसी बीच मप्र के पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कांग्रेस के दिग्गज नेता राहुल गांधी पर जमकर बोला है। उन्होंने कांग्रेस की भारत जोड़ो यात्रा और भारत जोड़ो न्याय यात्रा को दोनों को विफल बताया है। इसके अलावा कांग्रेस नेताओं के राम मंदिर न जाने पर भी सवाल खड़े किए है।

दोनों यात्रा को विफल यात्रा

पूर्व सीएम शिवराज ने सोमवार को मीडिया से बातचीत में कहा कि राहुल गांधी ने अपनी एक और विफल यात्रा का समापन किया। राहुल ने दो यात्राएं की और वह दो यात्राएं भारत जोड़ो, कांग्रेस तोड़ो, कांग्रेस छोड़ो यात्रा साबित हुई । पूर्व सीएम ने कहा कि उनकी यात्रा जहां से गुजरी वहां से कांग्रेस ही गुजर गई।  न्याय यात्रा ने भी कांग्रेस के साथ अन्याय ही किया।

जहां से वो गुजरे वहां कांग्रेस या तो हारी या शीर्ष नेताओं ने कांग्रेस छोड़ी। शिवराज ने कहा कि मैं राहुल जी और खड़गे जी से आज कुछ सवाल पूछ रहा हूं और उनके जवाब चाहता हूं। देश जानना चाहता है वो जवाब दें!शिवराज ने राहुल गांधी और मल्लिकार्जुन खरगे से पूछा कि जब अयोध्या में भगवान श्री राम के दिव्य और भव्य मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा हुई थी तब संपूर्ण देश आनंद, उत्सव और भक्ति से सरोवार था। निमंत्रण उन्हें भी मिला था, कि वो सनातन धर्म के सबसे बड़े पर्व में शामिल हों उन्होंने इस कार्यक्रम में सम्मिलित नहीं होने का फैसला क्यों किया? निमंत्रण ठुकरा दिया। मैं यह मानता हूं, कांग्रेस की इस ऐतिहासिक भूल के लिए जवाब देना चाहिए।

संदेशखाली को लेकर भी साधा निशाना

पश्चिम बंगाल का संदेशखाली में बहन और बेटियों के साथ जो अमानसिक मध्ययुगीन अत्याचार और अन्याय, घिनौने कृत्य हुआ। बहनें सड़कों पर उतरी, लेकिन कांग्रेस की तरफ से उनके समर्थन में एक भी बयान नहीं आया। क्या यह आपकी तुष्टिकरण की नीति नहीं है।

पूर्व सीएम ने कहा कि एक बात मैं पूछना चाहता हूं देश भी जानना चाहता है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दुनिया के सर्वाधिक लोकप्रिय नेता, जो जनता के दिलों में बसते हैं देश उनका पूरा परिवार है। उनके खिलाफ राहुल जी और उनकी पार्टी के नेता आपत्तिजनक बयान देते हैं यह भारत की संस्कृति नहीं है। प्रधानमंत्री के पद पर आसीन एक ऐसे नेता जो विकसित भारत का निर्माण कर रहे हैं  सारी दुनिया जिनका सम्मान करती है, उनके खिलाफ अशब्द शब्दो का इस्तेमाल क्या यही कांग्रेस और इंडी गठबंधन का चरित्र है? वहीं,  सोनिया गांधी ने लोकसभा का चुनाव क्यों नहीं लड़ा?, इसका जवाब भी जनता चाहती है।

चुनावी बांड्स पर राहुल गांधी ने दिया बड़ा बयान, ‘जबरन वसूली रैकेट’ और राष्ट्र-विरोधी गतिविधि बताया

इन दिनों चुनावी बांड्स को लेकर पूरे देश में चर्चा का विषय बना हुआ है। सुप्रीम कोर्ट की फटकार के बाद एसबीआई ने चुनावी बांड्स की जानकारी जारी की। इसके बाद आज भारत जोड़ो न्याय यात्रा में कांग्रेस के दिग्गज नेता राहुल गांधी ने बड़ा बयान दिया है। कांग्रेस नेता एवं वायनाड से सांसद राहुल गांधी ने चुनावी बॉन्ड को प्रधानमंत्री कार्यालय का सबसे बड़ा घोटाला करार दिया है। उन्होंने इसे केंद्रीय एजेंसियों की मदद से भाजपा को लाभ पहुंचाने वाला ‘जबरन वसूली रैकेट’ बताया और इसे राष्ट्र-विरोधी गतिविधि भी करार दिया।

भ्रष्टाचार और घोटाले का बड़ा उदाहरण

राहुल गांधी ने ‘भारत जोड़ो न्याय यात्रा’ के अंतिम दिन एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि इससे बड़ी कोई राष्ट्र-विरोधी गतिविधि नहीं हो सकती है। बकौल राहुल गांधी, केंद्रीय जांच ब्यूरो (CBI), प्रवर्तन निदेशालय (ED) और इनकम टैक्स विभाग जैसी केंद्रीय एजेंसियां बीजेपी-आरएसएस के हाथ का हथियार बन गई हैं।

चुनावी बॉन्ड को दुनिया में भ्रष्टाचार और घोटाले का सबसे बड़ा उदाहरण बताते हुए उन्होंने कहा कि यह कंपनियों को डराने और उनसे पैसे लेने का एक तरीका है। यह एक बहुत बड़ी चोरी हो रही है, जो पूरी तरह से प्रधानमंत्री द्वारा आयोजित की गई है।

राहुल ने भाजपा पर लगाए गंभीर आरोप

उन्होंने आगे विस्तार से बताते हुए कहा कि कंपनियों पर ईडी, आईटी और सीबीआई के छापे पड़ते हैं और कुछ दिनों के बाद वे कंपनियां चुनावी बॉन्ड के माध्यम से भाजपा को चंदा देती हैं। कंपनियों को ठेका मिलता है और कुछ दिनों के बाद वे चुनावी बॉन्ड के माध्यम से भाजपा को ‘कट’ देती हैं। यह कंपनी से कॉन्ट्रैक्ट का हिस्सा लेने और हफ्ता लेने का एक साधन है।

नौकरशाहों और जांच एजेंसियों के शीर्ष अधिकारियों को चेतावनी देते हुए पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि किसी दिन भाजपा सरकार हटा दी जाएगी और फिर इन अधिकारियों को दंडित किया जाएगा और सजा ऐसी होगी कि कोई कभी ये काम करने के बारे में सोचेगा भी नहीं। यह मेरी गारंटी है। उन्होंने कहा कि शिवसेना और राकांपा जैसी राजनीतिक पार्टियों को पैसे का इस्तेमाल करके तोड़ा जा रहा है। यह पैसा कहां से आया है? उन्होंने कहा कि सीबीआई और ईडी जांच नहीं कर रहे हैं। वे जबरन वसूली कर रहे हैं। राजनीतिक दलों को भाजपा और अमित शाह तोड़ रहे हैं और पूरा महाराष्ट्र जानता है कि इसके लिए पैसा यहीं से आया है।

जय श्री राम बोलो और भूखे मर जाओ- राहुल गांधी

शाजापुर में राहुल ने अपनी यात्रा के दौरान कहा कि मोदी जी चाहते हैं कि आप जय श्री राम बोलते रहे, मोबाइल चलाएं पर बेरोजगारी की बात ना करें और भूखे मर जाए।

कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष और वर्तमान में वायनाड से सांसद की भारत जोड़ो न्याय यात्रा (Bharat Jodo Nayay Yatra) मंगलवार को शाजापुर (Shajapur) पहुँची थी। जहां यात्रा रोक कर उन्होंने जय श्री राम के नारे लगा रहे भाजपा के कार्यकर्ताओं से मिले और मोहब्बत की दुकान खोलने के लिए धन्यवाद दिया।

अपने कार्यकर्ताओं से नहीं मिले

यात्रा में राहुल का अभिवादन करने पहुँचे कांग्रेस (Congress) के कार्यकर्त्ताओ से नहीं मिले राहुल जिससे कार्यकर्ताओं में निराशा हुई, वहीं नारे लगा रहे भाजपा के कार्यकर्ताओं से मिले और उनका अभिवादन स्वीकार किया।

पीएम जातिवाद और धर्म पर लड़वाते हैं

राहुल ने आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी आप सब को जातिवाद और धर्म के आधार पर बाट कर राजनीति करते हैं। इसी को खत्म करने के लिए मैंने यह यात्रा शुरू की है वे तोड़ने की राजनीति करते हैं और हम जोड़ने की।मोदी जी ने देश की सबसे बड़ी पूंजी युवा को बेरोजगार बना दिया है, आज युवा दिन भर सिर्फ रील्स देखता है।

राहगीरों को हुई परेशानी
यात्रा के कारण कई घंटे तक ट्रैफिक व्यवस्था बाधित रही जिससे राहगीरों को तरह-तरह की दिक्कतों का सामना करना पड़ा। राहुल की यात्रा अब उज्जैन पहुँचेगी, वे वहाँ महाकाल के दर्शन करेंगे।

सिंधिया के गढ़ से राहुल गांधी की न्याय यात्रा प्रारंभ, अध्यक्ष के दायित्व के बाद जीतू पटवारी की पहली बार अग्नि परीक्षा

राहुल गांधी यात्रा के दौरान मुरैना से उज्जैन तक अलग-अलग समूहों में संवाद करेंगे। इनमें अग्निवीर योजना के उम्मीदवारों, पूर्व सैनिकों, किसानों, पटवारी परीक्षार्थियों, एमपीपीएससी की तैयारी कर रहे युवाओं, महिलाओं आदि से संवाद करेंगे…

मध्य प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष का दायित्व मिलने के बाद पहली बार जीतू पटवारी (Jitu Patwari) की अग्नि परीक्षा होने जा रही है। दरअसल, कांग्रेस नेता राहुल गांधी (Rahul Gandhi) की भारत जोड़ो न्याय यात्रा एमपी आ रही है। मार्च महीने के पहले सप्ताह में यह यात्रा एमपी में आएगी। भारत जोड़ो न्याय यात्रा में किसी तरह की कोई चूक न हो, इसके लिए पीसीसी चीफ पटवारी अलर्ट हैं और प्रदेश भर का दौरा कर चुके हैं। इसी क्रम में पटवारी मंगलवार से फिर प्रदेश के दौरे पर निकलेंगे। राहुल अपनी इस यात्रा के जरिए सात लोकसभा सीटों को कवर करेंगे। इनमें मुरैना, ग्वालियर, रतलाम, देवास, गुना, राजगढ़ और उज्जैन सीट शामिल है। कांग्रेस ने राहुल गांधी की यात्रा के पूरे रूट पर हर स्थान के लिए एक नेता को जिम्मेदारी दी है। स्वागत, रोड शो, नुक्कड़ सभा, दोपहर भोजन, रात्रि विश्राम, संवाद और जनसभा के लिए वरिष्ठ नेताओं को जिम्मेदारी सौंपी गई है। दोपहर 12 बजे बदनावर में ही राहुल गांधी जनसभा को संबोधित करेंगे

कमलनाथ करेंगे राहुल गांधी की यात्रा का स्वागत

सूत्रों के मुताबिक 2 मार्च को राहुल गांधी की भारत जोड़ो न्याय यात्रा का कमलनाथ ग्वालियर में स्वागत करेंगे। पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ दो मार्च से लगातार राहुल गांधी के साथ रहेंगे। कमलनाथ ने सोशल मीडिया पर लिखा है कि हमारे नेता राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा कल 2 मार्च को मुरैना से मध्यप्रदेश में प्रवेश करेगी। यह यात्रा भारत के सभी वर्गों को न्याय देने की यात्रा है। यह जन जागरण और नया भारत रचने के सपने की यात्रा है।

राहुल गांधी की न्याय यात्रा पहुंचने वाली है महाकाल नगरी, कांग्रेस की ओर से तैयारियां तेज

राहुल गांधी की भारत जोड़ो न्याय यात्रा मध्य प्रदेश के उज्जैन पहुंचने वाली है। जानकारी के मुताबिक आगामी पांच मार्च को उज्जैन पहुंच रही भारत जोड़ो न्याय यात्रा से राहुल गांधी सीधे महाकाल मंदिर पहुंचकर भगवान महाकाल का आशीर्वाद लेंगे।जिसके बाद कार्तिक मेला ग्राउंड पर आमसभा को संबोधित करेंगे।

यात्रा सफल बनाने के लिए कांग्रेस पार्टी कर रही पूरी तैयारी

भारत जोड़ो न्याय यात्रा के उज्जैन पहुंचने से पहले प्रदेश कांग्रेस के प्रभारियों द्वारा लगातार बैठकें की जा रही हैं। कांग्रेस कार्यालय में शहर कांग्रेस के अध्यक्ष रवि भदौरिया की अध्यक्षता में प्रदेश प्रभारियों की उपस्थिति में सोमवार को शहर एवं जिला कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और कार्यकर्ताओं की एक महत्वपूर्ण बैठक आयोजित की गई। बैठक में राहुल गांधी की यात्रा के दौरान भगवान महाकाल के दर्शन और आमसभा की रणनीति तैयार की गई। दर्शन पश्चात कार्तिक मेला ग्राउंड पर राहुल गांधी आमसभा को संबोधित करेंगे। राहुल गांधी की न्याय यात्रा को ऐतिहासिक बनाने के लिए मध्यप्रदेश के प्रभारी कुलदीप सिंह इंदौरी, यात्रा प्रभारी प्रियव्रत सिंह खींची, रवि जोशी, सज्जन सिंह वर्मा ने शहर अध्यक्ष रवि भदौरिया के साथ यात्रा के दौरान आमसभा स्थल का चयन किया। भारत जोड़ो न्याय यात्रा की तैयारी का जायजा लेने 29 फरवरी को प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष जीतू पटवारी उज्जैन पहुंचेंगे यहां पर समिति के सदस्यों कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं और ब्लॉक अध्यक्षों के साथ बैठक करेंगे और यात्रा की तैयारी को अंतिम रूप देंगे।

बीजेपी का ‘प्लान 25 फरवरी’ और अमित शाह के भोपाल दौरे से कांग्रेस का दिल्ली दरबार टेंशन में: राजनीतिक प्रतिस्पर्धा में बढ़ सकता है तनाव

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह 25 फरवरी को भोपाल में बीजेपी नेताओं के साथ बैठक करेंगे।उनका सरकारी योजनाओं का लाभ पाने वाले तीन परिवारों से भी मुलाकात करने का प्लान है। इन परिवारों से उन्हें सरकार की योजनाओं के बारे में जानकारी मिलेगी। इस दौरे को कई मायनों में महत्वपूर्ण माना जा रहा है, क्योंकि बीजेपी का लक्ष्य है 51 प्रतिशत वोट शेयर प्राप्त करना, जिसमें हर बूथ पर 370 वोट प्राप्त करना शामिल है। इस समय, अमित शाह का दौरा राहुल गांधी की “भारत जोड़ो” यात्रा से पहले मध्यप्रदेश में हो रहा है, जिससे बीजेपी अपने कार्यकर्ताओं का मोराल/ उत्साह ऊंचा करना चाहती है।

हाइलाइट्स :–

25 फरवरी को एमपी दौरे पर आएंगे अमित शाह
कांग्रेस के कई नेता बीजेपी में हो सकते हैं शामिल
ग्वालियर, खजुराहो और भोपाल में शाह के कार्यक्रम
25 फरवरी को एमपी में बड़े फेरबदल की चर्चाएं तेज

मध्य प्रदेश में पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ और उनके बेटे नकुलनाथ के भाजपा में शामिल होने पर चल रही विवादों पर अब भी ध्यान दिया जा रहा है, लेकिन इसके बाद भी कांग्रेस में दल-बदल की गति तेजी से बढ़ती जा रही है। आने वाले 25 फरवरी को होने वाले बड़े दल-बदल के बारे में फिर से चर्चाएं चल रही हैं। यह सच है कि राज्य में लोकसभा चुनाव से पहले कई कांग्रेस नेता भाजपा में शामिल हो रहे हैं। जबलपुर के मेयर जगत सिंह अन्नू और पूर्व अटॉर्नी जनरल शशांक शेखर के अलावा मीडिया विभाग के पूर्व अध्यक्ष अजय सिंह यादव जैसे कांग्रेस के नेता और कार्यकर्ता भाजपा में शामिल हो चुके हैं।

मध्य प्रदेश में कांग्रेस में दल-बदल की गति तेजी से बढ़ रही है और इसके परिणामस्वरूप कई कांग्रेस नेता भाजपा में शामिल हो रहे हैं। यह विवादों का समय है और इससे पार्टी को समुदाय के भीतर एकता और समर्थन की आवश्यकता है। इससे पार्टी की भविष्य में प्रतिबद्धता कम हो सकती है। इस संकट का सामना करने के लिए पार्टी को मजबूती से सामना करना होगा और सही नेताओं का चयन करना होगा।

जिसको जाना है वह जाएं

मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव तो यहां तक कह रहे हैं कि कुछ लोग भाजपा परिवार में जुड़ना चाह रहे हैं, लेकिन अभी नहीं जुड़े हैं। काल के प्रवाह में आगे चलकर वे हमारे परिवार से जुड़ेंगे, ऐसा हमें विश्वास है। यह बात अलग है कि कांग्रेस की प्रदेश इकाई इस दल-बदल से अपने को बेफिक्र बताने की कोशिश रही है और प्रदेश प्रभारी भंवर जितेंद्र सिंह तो यहां तक कह चुके हैं कि जिनको जाना है, वे जाएं।