Sat. Jun 15th, 2024

1 करोड़ से ज्यादा के 180 फ़र्ज़ी बिल पास, 5 सीएमओ पर केस दर्ज

मुरैना के कैलारस नगर परिषद में अधिकारियों और फ़र्ज़ी कर्मचारी की साँठ गाँठ का खुलासा ग्वालियर ईओडब्ल्यू ने किया है। 2020 से 2022 तक नगर परिषद के अधिकारियों ने मिलकर 1 करोड़ 41 लाख 75 हज़ार रुपए के 180 फ़र्ज़ी बिल पास कर दिए। जिसपर अब ईओडब्ल्यू ने पुराने 5 सीएमओ और कर्मचारियों पर केस दर्ज किया है।

ना कोई रिकॉर्ड ना सामग्री आई परिषद में

इस मामले में नगर निगम से आम आदमी पार्टी के पार्षद रमेश उपाध्याय, निवासी केशव नगर कालोनी की शिकायत के बाद 7 फरवरी 2023 को ग्वालियर ईओडब्ल्यू ने मामला पंजीबद्ध किया और इसकी जांच टीआइ डा. जयसिंह यादव ने की, जिसमें बताया गया है, कि दो साल में 180 फर्जी बिल वाउचरों का स्टोर रजिस्टर में रिकार्ड नहीं मिला है। इतना ही नहीं है इन बिलों की कोई सामग्री न तो नगर परिषद में कभी आई और ना ही ऐसी सामग्री का कहीं उपयोग हुआ है।

घोटाले का मास्टरमाइंड स्टोरकीपर ही फ़र्ज़ी निकला

जाँच अधिकारी तो दंग रहे गए जब उन्हें पता चला कि इस घोटाले का मास्टरमाइंड कोई अधिकारी नहीं बल्कि स्टोरकीपर शिवकुमार शर्मा है वो भी फ़र्ज़ी। जांच में बताया गया है, कि शिवकुमार शर्मा नगर सुधार न्यास मुरैना में 1989 में दैनिक वेतनभोगी कर्मचारी के तौर पर नियुक्त हुआ और हाईकोर्ट में याचिका लगाने के बाद 1994 में पुन: दैवेभो कर्मचारी के तौर पर बहाली की गई।
शिवकुमार शर्मा आज तक नियमित नहीं हुआ, लेकिन फर्जी कागजात बनाकर खुद को नियमित कर्मचारी बना लिया और मुरैना से कैलारस नपा में तबादला करा लिया। ईओडब्ल्यू की जांच रिपोर्ट में स्पष्ट लिखा गया है, कि शिवकुमार शर्मा ने ही पांच सीएमओ व अन्य अधिकारियों से मिलकर दो साल में 1.41 करोड़ का खरीदी घोटाला किया है। इसके अलावा सालों से नियमित कर्मचारी का वेतन लेकर सरकार से भी वेतन के नाम पर फर्जीवाड़ा किया है।

5 सीएमओ, दो लेखपाल पर भी केस दर्ज

2020 से 2022 तक पदस्थ रहे सीएमओ संतोष शर्मा, अमजद गनी, संतोष सिहारे, रामवरण राजौरिया, अतरसिंह रावत के अलावा तत्कालीन लेखापाल अकाउंटेंट देवप्रकाश शर्मा एवं लक्ष्मण सिंह के अलावा टाइमकीपर शिवकुमार शर्मा के खिलाफ आइपीसी की धारा 409, 420, 468, 471, 120-बी एवं भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम की तीन अलग-अलग धाराओं में केस दर्ज किया गया है।