Thu. Apr 18th, 2024

प्रदेश के 6 नए शहरों में बनेंग एयरपोर्ट, केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने दी बड़ी सौगात

लोकसभा चुनाव से पहले केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने एक बड़ा ऐलान किया है। उन्होंने मध्य प्रदेश में 6 नए एयरपोर्ट बनवाने की घोषणा की है। इन एयरपोर्टस को लेकर केंद्र सरकार ने कार्य योजना तैयार कर ली है। मध्य प्रदेश में लगातार हवाई यात्राओं को विकसित किया जा रहा है।

मुख्यमंत्री की मौजूदगी में सिंधिया ने किया ये एलान

मध्य प्रदेश में गुना और शिवपुरी जिले में रहने वाले क्षेत्रवासियों को आज एक बड़ी सौगात मिली है। इस सौगात के जरिए केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) ने कई लोगो के सपने पुरे किए है। सिविल एविएशन मिनिस्ट्री द्वारा सूचित किया गया है की जल्दी ही गुना जिला और शिवपुरी जिला में नए हवाईअड्डे बनाए जाएंगे। ग्वालियर और जबलपुर एयरपोर्ट के लोकार्पण के अवसर पर मुख्यमंत्री डॉक्टर मोहन यादव की मौजूदगी में केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने मध्य प्रदेश के एयरपोर्ट की संख्या आने वाले समय में बढ़कर 10 तक हो जाने का ऐलान किया है।

प्रदेश में 10 एयरपोर्ट हो जाएंगे

केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने बताया कि मध्य प्रदेश में पहले चार एयरपोर्ट थे। इनमें इंदौर, भोपाल, ग्वालियर और जबलपुर शामिल है। मध्य प्रदेश में हवाई यात्रा को लेकर केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि पूरे प्रदेश में प्रति सप्ताह 489 हवाई जहाज का आवागमन होता था। अब इन एयरपोर्ट से प्रति सप्ताह 1000 विमान का आवागमन होता है। इस प्रकार उन्होंने पिछले तीन सालों की अपनी उपलब्धि गिनाते हुए कहा कि आने वाले समय में मध्य प्रदेश में 10 एयरपोर्ट नजर आएंगे।इनमें शिवपुरी, गुना, दतिया, उज्जैन, रीवा, सतना शामिल है। इन सभी शहरों में आने वाले समय में एयरपोर्ट बनने वाले है।

जिस शहर में एयरपोर्ट बनता है, वहां का व्यापार, व्यवसाय, पर्यटन और रोजगार भी बढ़ता है

केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा है कि जिस शहर में एयरपोर्ट बनता है, वहां का व्यापार, व्यवसाय, पर्यटन और रोजगार भी बढ़ता है।मध्य प्रदेश के कोने- कोने में एयरपोर्ट बनने वाले हैं, जिससे यहां पर व्यापार भी बढ़ेगा। उन्होंने बताया कि बीते तीन साल पहले तक मध्य प्रदेश के केवल 12 शहर ही हवाई मार्ग से जुड़े हुए थे, वहीं अब तीन सालों में इन शहरों की संख्या बढ़कर 21 हो गई है।