Wed. Jul 17th, 2024

गांव की महिला की मौत से गुस्साई हुई महिलाओं ने घेरा Guna कलेक्ट्रेट, सबके सामने उतारने लगी कपड़े

मध्य प्रदेश के Guna से एक चौंकाने वाली घटना सामने आई है। Guna पुलिस की कस्टडी में एक पारदी युवती की मौत के बाद समाज की महिलाओं ने कलेक्ट्रेट में विरोध प्रदर्शन किया। मंगलवार को कई महिलाएं कलेक्ट्रेट पहुंचीं और कलेक्टर डॉ. सतेंद्र सिंह से मुलाकात की। कलेक्टर ने उनकी बातें सुनी, लेकिन बाहर निकलने के बाद महिलाएं फिर से विरोध करने लगीं।

महिलाओं ने कपड़ उउतारने किए शुरू

इस दौरान कुछ महिलाओं ने अपने कपड़े उतारने शुरू कर दिए। पुलिसकर्मियों और महिलाओं के बीच झूमाझटकी हुई, जिसमें कई महिलाओं की चूड़ियां टूट गईं और कैंट थाने के टीआई को खरोंच आ गई। एक पारदी महिला को चोट लगने से उसके सिर से खून बहने लगा। इस स्थिति को देखते हुए कलेक्टर ने कुछ महिलाओं को दोबारा बुलाकर उनकी बात सुनी।

महिलाओं का आरोप पुलिस की मारपीट के कारण हुई महिला की मौत

महिलाओं का आरोप है कि 25 वर्षीय देवा पारदी की मौत हार्ट अटैक से नहीं, बल्कि पुलिस की मारपीट के कारण हुई है। उन्होंने सवाल उठाया कि इतनी कम उम्र के लड़के को हार्ट अटैक कैसे आ सकता है। उनका कहना है कि पुलिस ने देवा और उसके चाचा के साथ भी मारपीट की है। मृतक देवा के परिवार की महिलाओं की मांग है कि देवा के चाचा गंगाराम, जो घटना के समय पुलिस की पिटाई से घायल हुए थे, को जिला अस्पताल में भर्ती कराया जाए और उन्हें इस मामले में इंसाफ मिले।

भोपाल में पिता ने अपने ही 8 साल के बेटे की हत्या, थाने में जाकर किया हत्या के कारण का खुलासा

भोपाल के कोलार इलाके में शुक्रवार सुबह एक दिल दहलाने वाली घटना घटी, जिसमें एक सिक्योरिटी गार्ड ने अपने ही आठ साल के बेटे की सोते समय गला दबाकर हत्या कर दी। घटना की जानकारी मिलने के बाद आरोपी पिता को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।

डाउन सिंड्रोम से पीड़ित था बेटा

पुलिस के अनुसार, गणपति इन्क्लेव स्थित राधाकृष्ण कॉम्प्लेक्स में रहने वाले अनिताभ फिरवरकर, जो एक सिक्योरिटी एजेंसी में काम करता है, अपने परिवार के साथ रहता है। परिवार में उसकी पत्नी, आठ साल का बेटा आरव और बुजुर्ग सास शामिल हैं। आरव जन्म से ही डाउन सिंड्रोम से पीड़ित था और उसके इलाज में परिवार ने लाखों रुपये खर्च किए थे, लेकिन उसकी तबियत में कोई सुधार नहीं हो रहा था। इस तनाव और बेटे के भविष्य को लेकर अनिताभ काफी परेशान चल रहा था।

शुक्रवार सुबह लगभग साढ़े छह बजे, अनिताभ की पत्नी छत पर कपड़े सुखाने गई थी और उसकी सास अपने कमरे में थी, जिसकी आंखों की रोशनी कम हो चुकी है। इस बीच, अनिताभ ने सोते हुए बेटे आरव का गला दबाकर उसकी हत्या कर दी। जब पत्नी ने बेटे को बेसुध पाया, तो उसे इलाज के लिए अस्पताल ले गई, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

पत्नी के अस्पताल जाने के बाद अनिताभ घर से बाहर निकला और कोलार थाने जाकर उसने अपने बेटे की हत्या की बात कबूल कर ली। पुलिस ने आरोपी पिता को गिरफ्तार कर लिया है और मामले की जांच जारी है। इस घटना ने पूरे इलाके में एक गहरा शोक और स्तब्धता फैल दी है।

इंदौर के युवक ने टिम कुक के नाम पर ठगा ऑस्ट्रेलियाई नागरिक, राज्य साइबर सेल ने कसा शिकंजा

इंदौर के एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर को ऑस्ट्रेलिया के नागरिक से ठगी करने के आरोप में स्टेट साइबर सेल ने गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी मयंक सलूजा के खिलाफ उठाए गए आरोप यह हैं कि उन्होंने एपल के सीईओ टिम कुक की कंपनी के लिए सॉफ्टवेयर बनाने के नाम पर एक करोड़ रुपये ठगे लिए हैं। उन्होंने अपने पार्टनरशिप के लालच में भी असलीता से विमर्श किया था।

फर्जी साइन किए

आरोपी ने विश्वास जीतने के लिए एक फर्जी साइन के साथ टिम कुक के नाम पर एक कॉन्ट्रेक्ट लेटर भी ऑस्ट्रेलियाई नागरिक अल शेफर्ड को दिया था। इसके बाद शेफर्ड ने वकील के माध्यम से कोर्ट में याचिका दाखिल की। उसने दावा किया कि उसने सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट के लिए मयंक को ढूंढा था और उससे संपर्क किया था। मयंक ने विभिन्न फीस दरें बताई, जैसे प्रोग्राम डेवलपमेंट, एंड्रॉयड मोबाइल एप और अन्य सेवाओं के लिए।

राज्य साइबर सेल ने कसी नकेल

शेफर्ड ने पैसे भेज दिए, लेकिन तीन साल बीत जाने के बाद भी सॉफ्टवेयर तैयार नहीं किया गया। उसने बार-बार मयंक से रुपये मांगे, लेकिन वह आनाकानी करता रहा। अंततः शेफर्ड को कोर्ट की शरण लेनी पड़ी।

राज्य साइबर सेल के अधिकारी ने मयंक से पूछताछ की और उससे आरोपित गतिविधियों के बारे में जानकारी प्राप्त की। पुलिस ने उसकी कंपनी को टिम कुक के फर्जी हस्ताक्षर वाले लेटर की जानकारी भी भेजी है। मयंक को इस मामले में गिरफ्तार कर लिया गया है और पुलिस उससे इस विवाद में और भी आपत्तिजनक कार्रवाई के संबंध में पूछताछ कर रही है।

सागर में मां बेटे का रिश्ता हुआ शर्मसार, शराब के पैसे न देने पर बेटे ने डंडे से पीट-पीटकर कर दी अपनी ही मां की हत्या

मां और बेटे का दुनिया में सबसे अनमोल रिश्त होता है लेकिन मप्र के सागर इसी रिश्ते को तार-तार करने वाली खबर सामने आयी है। जहां एक बेटे ने 72 साल की मां की पीट पीटकर हत्या करने वाले बेटे को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी बेटा मां की हत्या करने के बाद से फरार हो गया था। आरोपी शराब पीने का आदी और आदतन अपराधी है। वह अपनी मां के साथ घर में अकेला रहता था।

शराब के लिए पैसे न देने पर की हत्या

दरअसल जिले के देवरी थाना क्षेत्र अंतर्गत ग्राम कोपरा में शुक्रवार रात यह मामला सामने आया था। जानकारी अनुसार के आरोपी शराब पीने का आदी और आदतन अपराधी है। वह अपनी मां के साथ घर में अकेला रहता था। शराब पीने के लिए मां से पैसे मांगने को लेकर उसका आए दिन झगड़ता होता रहता था।

शुक्रवार रात को भी आरोपी ने शराब पीने के लिए मां से पैसे मांगे, लेकिन उसने रुपये देने इनकार कर दिया। इसी बात पर दोनों में विवाद हो गया और शराब के नशे में आरोपी अमोल लोधी ने मां की डंडे से पीट-पीटकर हत्या कर दी।मां की हत्या की सूचना उसके बड़े लड़के ने देवरी पुलिस को दी थी।

पुलिस ने घटनास्थल का मुआयना कर मृतका के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया था और केस दर्ज कर  आरोपी की तलाश शुरू की थी। शनिवार को पुलिस ने आरोापी बेटे को गिरफ्तार कर लिया था।

इंदौर में ट्रेन में मिली लाश की गुत्थी सुलझी, हत्यारे ने अपनी ही पत्नी के सामने किए थे महिला के शव टुकड़े

बीते एक महीने से पूरे मध्यप्रदेश में ट्रेन में महिला की लाश मिलने का मामला गरमाया हुआ था। इसके बाद हर दिन इस मामले की चर्चा पूरे प्रदेश सहित देश में हो रही थी। अब इस मामले की पूरी गुत्थी पुलिस ने सुलझा ली है। पुलिस ने हत्या करने वाले हत्यारे को गिरफ्तार कर लिया है साथ ही हत्या करने की वजह का भी पता लगा लिया है।

स्टेशन पर महिला से मिला था हत्यारा

रेल पुलिस (जीआरपी) के मुताबिक कमलेश पटेल उप्र के ललितपुर के पिपरोनिया बेहट का रहने वाला है, जो हीरा मिल की चाल उज्जैन में रहता है। 6 जून को मीराबाई उज्जैन प्लेटफार्म क्रमांक-1 पर मथुरा जाने वाली ट्रेन के इंतजार में बैठी थी। कमलेश ने उससे बात की और कहा मथुरा की ट्रेन निकल गई है। दूसरी ट्रेन कल मिलेंगी, वह समझाबुझा कर घर ले गया।

7 जून को उसने खाने में नींद की गोलियां मिला दी। मीराबाई को नींद तो नहीं आई लेकिन हल्की बेहोशी छाने लगी थी।आरोपित ने उसके साथ दुष्कर्म का प्रयास किया तो उसने विरोध किया। धक्का-मुक्की मेें मीरा नीचे गिर गई। कमलेश ने ट्रैक से चुराए बोल्ट से हमला कर दिया। बेहोश होने पर उसका गला घोंट कर मार डाला।

बाथरूम में किए शव के टुकड़े

8 जून को जीरो पाइंट से कैरी काटने का संतूर लेकर आया और मौरी (नहाने का स्थान) पर पहले हाथ-पैर काटे फिर शरीर के दो टूकड़े कर दिए। आरोपित ने शरीर के टुकड़े नागदा-महू ट्रेन में रखे और हाथ-पैर उज्जैयनी एक्सप्रेस में एस-1 में रख दिए।टीआइ संजय शुक्ला के मुताबिक कमलेश करीब 15 साल से उज्जैन रहता है। उसके घर में अनैतिक गतिविधियां भी चलती है।

उसकी पत्नी आरती मूक बधीर है। कमलेश ने पुलिस को गुमराह करने का प्रयास किया था। उसने दो मुस्लिम युवकों का नाम बता कर जांच से भटका दिया। पुलिस ने आरती को हिरासत में लिया और मूक बधीर विशेषज्ञ ज्ञानेंद्र पुरोहित की मदद से पूछताछ की। आरती ने इशारों में पूरा घटनाक्रम बता दिया। उसने यह भी बताया कि कमलेश ने उसे धमकाया था। वह उसके साथ मारपीट करता रहा है।

पुलिस आरती को कोर्ट ले गई और मजिस्ट्रेट के समक्ष धारा 164 के तहत कथन दर्ज करवाए।इसके बाद कमलेश से सख्ती से पूछताछ की तो वह टूट गया। पुलिस ने कपड़े, संतूर जब्त कर लिया है। आरोपित ने बताया शव ठिकाने लगाने के बाद रामघाट जाकर शिप्रा में जाकर स्नान किया था।

इंदौर में चाकू की नोक पर नाबालिग से रेप, घर में अकेली देखकर आधी रात को जबरदस्ती घर में घुस आया

इंदौर की परदेशीपुरा पुलिस ने एक नाबालिग छात्रा से रेप का केस दर्ज किया है। छात्रा के मुताबिक इलाके में रहने वाले आरोपी ने रात में घर में घुसकर चाकू की नोक पर दो बार जबरदस्ती की। घटना के बाद छात्रा ने अपने माता-पिता को यह बात बताई। और फिर थाने जाकर आरोपी युवक के खिलाफ एफआईआर दर्ज करा दी।

जबरदस्ती घर में घुसा आरोपी

परदेशीपुरा पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक, 17 वर्षीय छात्रा की शिकायत पर साहिल नाम के लड़के पर रेप का केस दर्ज किया है। लड़की ने पुलिस को बताया कि आरोपी घर से कुछ ही दूरी पर रहता है। इस वजह से दोनों एक-दूसरे को पहचानते हैं। एक माह पहले धर्मेंद्र ने छात्रा से मोबाइल पर बात की थी।

23 मई को लड़की के घर पर कोई नहीं था। तभी साहिल मेरे घर पर आया और खिड़की खटखटाने लगा। छात्रा ने उससे आने का कारण पूछा तो कहने लगा कि जरूरी बात करना है। दरवाजा खोल दो। जैसे ही छात्रा ने दरवाजा खोला वह अंदर घुस आया और चाकू निकालकर संबंध बनाने की जिद करने लगा।

माता-पिता ने करवाया केस दर्ज

छात्रा ने बताया कि वह जाते-जाते मुझे धमकी दे गया कि यह बात किसी को बताई तो जान से मार देगा। और किसी को पता भी नहीं चलेगा। इतना ही नहीं धर्मेंद्र अगली रात में फिर आया और धमकी देकर दरवाजा खुलवाकर रेप किया।

29 मई को मां-पिता जब घर आए तो उन्हें पूरा घटनाक्रम बताया। इसके बाद दोनों के साथ जाकर परदेशीपुरा थाने में साहिल के खिलाफ एफआईआर दर्ज करा दी। पुलिस ने कहा कि छात्रा की शिकायत के बाद साहिल को हिरासत में ले लिया है।

पानी को लेकर रेलवे स्टेशन पर चले हथियार, पुलिस खड़ी खड़ी देखती रही तमाशा

इस समय पूरे देश में भीषण गर्मी का दौर चल रहा है। पूरे देश में गर्मी ने तांडव मचा रखा है। इस गर्मी में पानी की महत्वकांक्षा भी बढ गई है। यही कारण प्रदेश के मक्सी जिले में पानी की बोतल के लिए विवाद हो गया और विवाद इतना बढ गया कि दोनों पक्षों के बीच बात चाकूबाजी तक पहुंच गई है। पुलिस काफी देर तक देखने के बाद मामले को सुलझाया।

पानी के बोतल के पैसे को लेकर हुआ विवाद

प्राप्त जानकारी के अनुसार उज्जैन से मक्सी की ओर आ रही ट्रेन में मक्सी रेलवे स्टेशन पर पानी की बोतल बेचने आए लोगों और यात्रियों के बीच पानी की बोतल का अधिक पैसा वसूलने को लेकर विवाद हुआ था। विवाद इतना बढ़ गया कि पानी बेचने वाले युवक इकट्ठा हुए और धार धार हथियार लेकर यात्रियों पर हमला बोल दिया, जिसमें तीन लोग सुरेश राजपूत, अभय जोहर, और आशीष गंभीर रूप से घायल हो गए, जिन्होंने रेलवे पुलिस के पास भाग कर सहायता मांगी।

पुलिस अधिकारी नही बोले कुछ

रेलवे पुलिस ने युवकों को तो भगा दिया, लेकिन उन लोगों को संरक्षण देने का आरोप भी घायलों ने लगाया है, जिसके बाद घायलों को उपचार के लिए शाजापुर जिला चिकित्सालय लाया गया। जहां गंभीर स्थिति में सभी का उपचार शाजापुर जिला चिकित्सालय में जारी है। फिलहाल मामला रेलवे पुलिस का होने से कोई भी पुलिस अधिकारी इस मामले में बोलने को तैयार नहीं है।

इंदौर में बड़े भाई का सगा नहीं हुआ छोटा भाई, जमीन के लिए की अपने ही भाई की हत्या

इंदौर शहर में लगातार हत्याओं का दौर बढ़ता जा रहा है। शहर में एक के बाद एक लगातार हत्याएं होती जा रही है लेकिन फिर भी पुलिस कुछ करती नजर नहीं आ रही है। हाल ही में शहर की एक काॅलोनी में एक बड़े भाई ने अपने छोटे भाई की हत्या कर दी। अब पुलिस मामले की जांच में जुटी हुई है।

बंटवारे के लिए हुआ था विवाद

घटना बाणगंगा क्षेत्र के कालिंदी गोल्ड काॅलोनी की है। यहां रहने वाले आशीष खरे को परिवार के लोग रात को अस्पताल लेकर पहुंचे थे। उसके सीने में चाकू के गहरे घाव थे। डॉक्टर उसे बचा नहीं पाए। आशीष की पत्नी बबीता ने पुलिस को बताया कि उसके जेठ कमलेश्वर स्कीम-78 में रहते हैं। वे रात को घर आए थे और उन्होंने आशीष से विवाद किया। कमलेश आशीष पर पुश्तैनी मकान बेच कर राशि का बंटवारा करना चाहते थे, लेकिन आशीष इसके लिए तैयार नहीं थे। दोनों के बीच पहले बातचीत हुई फिर कहासुनी होने लगी।

पुलिस ने किया गिरफ्तार

इस बीच कमलेश ने चाकू निकाला और आशीष के सीने में घोंप दिया। इसके बाद कमलेश भाग गया। हम आशीष को अस्पताल लेकर आए, लेकिन उन्हें बचाया नहीं जा सका। पत्नी बबीता ने बताया कि जेठ कमलेश पति आशीष को मारने के इरादे से ही आए थे, क्योंकि वे चाकू अपने साथ लेकर आए थे। पुलिस ने देर रात कमलेश के घर छापा मारा और उसे गिरफ्तार कर लिया। हत्या के उपयोग में लाया चाकू भी पुलिस ने जब्त कर लिया है।

बेटे ने अपने ही माता-पिता की हत्या, छोटा भाई बचाने दौडा उस पर भी बोला हमला

माता – पिता किसी भी बेटे के लिए उसकी सबसे बड़ी दौलत होते हैं लेकिन मप्र के मुरैना में उसी बेटे ने अपने माता-पिता को मौत के घाट उतार दिया और बेटे ने सरिए अपने ही माता-पिता की मारकर हत्या कर दी। बेटे हत्या करने के बाद मौके से फरार हो गया है। पुलिस मामले की जांच में जुटी हुई है।

पहले भी कर चुका था हमला

दरअसल घटना मुरैना जिले के बसैया थाना क्षेत्र के कुतवार गांव की है। बताया जा रहा है कि आरोपी हरेंद्र पैसे को लेकर मां पिता से अक्सर झगड़ा करता था। लोगों की माने तो वह पहले भी मां-पिता पर हमला कर चुका था। मंगलवार रात सोते समय आरोपी ने उन पर हमला कर दिया।

छोटे भाई को भी मारने दौडा

छोटा भाई डैनी बीच बचाव के लिए आया तो आरोपी उसे भी मारने के लिए दौड़ा। इस पर उसने भागकर अपनी जान बचाई। उसने घटना की जानकारी अपने से बड़े भाई पंकज आरोपी अविवाहित एवं मानसिक रूप से विक्षिप्त है और माता-पिता दोनों बुजुर्ग थे।

माता-पिता से अक्सर झगड़ा करता था

आरोपी बेटा आए दिन माता-पिता से झगड़ा करता रहता था। हत्या करने के बाद दोनों शव को जिला चिकित्सालय लाया गया। इलाज के दौरान चिकित्सकों ने मृत घोषित किया। पोस्टमॉर्टम के लिए शव को पीएम हाउस पहुंचाया है। वहीं, घटना के बाद आरोपी फरार है। इसके साथ ही पुलिस आरोपी की तलाश कर रही है।

उज्जैन में पत्नी ने अपने ही पति की 6 लाख रुपये की सुपारी देकर कराई हत्या, वजह जानकर हो जाएंगे हैरान

पति-पत्नी के बीच अक्सर नोक झोंक और छोटी मोटी लड़ाई होती रहती है लेकिन उज्जैन के सोमवारिया क्षेत्र में पति-पत्नी के बीच विवाद इतना बढ़ गया है कि पत्नी ने अपने ही पति की 6 लाख की सुपारी देकर हत्या करवा दी। ये हत्या अवैध संबंध और संपत्ति विवाद के चलते पत्नी ने ही सुपारी देकर करवाई थी। इस हत्या की साजिए में उसकी भांजी और परिचित भी शामिल थे। मामले में पुलिस ने तीनों को गिरफ्तार कर लिया है।

सुबह टहालते वक्त कराई हत्या

दरअसल मिश्रीलाल राठौर के घर में शनिवार सुबह 9 बजे घुसते ही वहां छुपे हुए अज्ञात बदमाशों ने चाकू से हमला कर दिया। घटना में राठौर की मौत हो गई थी। ये मार्निंग वॉक करके घर वापस आ रहे थे। इस घटना के बाद से क्षेत्र में हडकंप मच गया था। इस मामले में पुलिस ने खोजबीन की तो पता चला की राठौर के अन्य महिलाओ से अवैध संबंध थे। इस कारण काफी समय सर उसका पत्नी कृष्णा बाई से विवाद चल रहा था। इसलिए कृष्णा बाई अपनी भांजी माया के साथ क्षेत्र में ही राठौर के दूसरे मकान में रह रही थीं, लेकिन राठौर उन्हें यहां से निकालना चाहता था।

चाकू से किए कई वार

यही वजह है कि कृष्णाबाई और माया ने परिचित गोपाल चौधरी निवासी मोहनपुरा को राठौर की हत्या के लिए 6 लाख रुपए की सुपारी देकर एक लाख रुपए एडवांस दिए थे। गोपाल ने यह काम बड़नगर रोड़ स्थित ग्राम कुलावदा के करण सोलंकी को दो लाख रूपए में देकर राठौर के मकान की एक चाबी भी दे दी। यही वजह है कि राठौर के मॉर्निंग वॉक से लौटने से पहले करण ताला खोलकर घर में छुप गया और जैसे ही राठौर घर में घुसा उस पर चाकू के कई वार कर दिए जिससे उसकी जान चली गई। पुलिस आवश्यक कार्रवाई कर रही है।