Sat. Apr 13th, 2024

BJP जिलाध्यक्ष पर आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन पर केस दर्ज, खुद शुभारंभ की फ़ोटो पोस्ट कर फंसे

मप्र के सिहोर में BJP युवा मोर्चा के जिलाध्यक्ष भूपेंद्र पाटीदार पर कांग्रेस पार्टी की शिकायत पर जिला कलेक्टर व निर्वाचन अधिकारी ने आचार संहिता के उल्लंघन का केस दर्ज किया। पाटीदार ने आचार संहिता लागू होने के बाद 20 मार्च को गेहूं खरीद केंद्र का शुभारंभ किया था जिसे जांच में सही पाया गया।

कांग्रेस नेता ने की शिकायत

कांग्रेस से जुड़े नेता पंकज शर्मा के अनुसार पिछले दिनों से लगातार सूचना मिल रही थी कि क्षेत्र में BJP के नेताओं द्वारा आचार संहिता का उल्लंघन किया जा रहा है। इसके बाद उन्होंने युवा मोर्चा के अध्यक्ष की शिकायत जिला कलेक्टर और निर्वाचन अधिकारी सीहोर से की थी।

जाँच में सही पाए गए तथ्य

शिकायत की जाँच करने पर सभी तथ्य सही पाए गए जिसके बाद अनुविभागीय दंडाधिकारी एवम सहायक रिटर्निंग अधिकारी तन्मय वर्मा के आदेश पर भूपेन्द्र पाटीदार पर आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन का मामला कायम किया।

दूसरी पर की शिकायत पर किया प्रकरण दर्ज

शर्मा ने कहा आचार संहिता के उल्लंघन की शिकायत 22 मार्च को जिला प्रशासन से की थी लेकिन उस शिकायत को खारिज कर दिया गया था, बाद सयुंक्त कलेक्टर को ज्ञापन दिया देने के बाद फिर 5 अप्रैल को शिकायत की गई । जिसके बाद प्रशासन ने तत्काल जांच के आदेश दिए थे जिसमें सभी आरोपों को सही पाया गया।कांग्रेस के नेता और पूर्व महासचिव पंकज शर्मा ने आरोप लगाया कि प्रशासन सरकार के दबाव में काम कर रहा है, इसीलिए हमारे द्वारा सभी तथ्य पेश करने के बाद अर्जी को खारिज कर दिया गया था, बाद में मीडिया में मामला आने केबाद प्रशासन ने कारवाही की है।

क्या होता है आचार संहिता का उल्लंघन?

लोकसभा चुनाव के लिए पूरे देश मे आदर्श आचार संहिता लागू है और आचार संहिता की नियमावली के अनुसार कोई भी जनप्रतिनिधि किसी भी तरह की नई योजना की शुरुआत नही कर सकते और ना ही सार्वजनिक उद्धघाटन कार्यक्रम नहीं कर सकते हैं। इसका उल्लंघन करने निर्वाचन अधिकारी द्वारा शिकायत की पुष्टि होने पर आरोपी पर केस दर्ज कर लिया जाता है।

खतरे में कांग्रेस MLA आरिफ मसूद की विधायकी ! नामांकन फॉर्म में मामले में कोर्ट ने 14 अप्रैल तक मसूद से जवाब मांगा

कांग्रेस MLA आरिफ मसूद की विधायकी खतरे में आ सकती है। क्योंकि उनके खिलाफ दाखिल की गई याचिका को जबलपुर हाई कोर्ट में स्वीकार कर लिया गया है। दरअसल बीजेपी प्रत्याशी ने उन पर विधानसभा चुनाव में सही संपत्ती जानकारी नहीं देने के मामले में एक याचिका दायर की थी। याचिका को जबलपुर हाई कोर्ट ने स्वीकार कर ली है।

बीजेपी प्रत्याशी ने दायर की थी याचिका

भोपाल मध्य विधानसभा सीट से बीजेपी प्रत्याशी रहे ध्रुव नारायण सिंह ने जबलपुर हाई कोर्ट में यह याचिका दायर की थी कि कांग्रेस विधायक आरिफ मसूद ने मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव के दौरान नामांकन फॉर्म में लोन संबंधी सही जानकारी नहीं दी है। ध्रुव नारायण सिंह के मुताबिक आरिफ मसूद ने खुद की और अपनी पत्नी के नाम पर करीब 65 लाख रुपये का लोन लिया है जिसे छुपाया गया है। इस मामले की याचिका को जबलपुर हाई कोर्ट ने स्वीकार कर लिया है।

14 अप्रैल तक कोर्ट ने आरिफ मसूद से जवाब मांगा

अब विधायक आरिफ मसूद से हाई कोर्ट ने 14 अप्रैल 2024 तक जवाब मांगा है। ध्रुव नारायण सिंह के वकील अजय मिश्रा के अनुसार मसूद और उनकी पत्नी रुबीना मसूद ने बैंक से करीब 65 लाख 38 हजार रुपये का लोन लिया था.जिसमें से आरिफ ने 34 लाख 10 हजार और रुबीना मसूद ने 31 लाख 28 हजार रुपये के लोन लेने की जानकारी नामांकन फॉर्म में नहीं दी थी। बता दें कि बीते कुछ महीनों पहले हुए विधानसभा चुनाव में कांग्रेस विधायक आरिफ मसूद ने 15 हजार वोटों से जीत हासिल की थी।

रमज़ान का यह महीना बरकतों व इबादतों का है, इस महीने में होते है 3 अशरे

यह महिना मुसलमानो के लिए बहुत खास होता है, यह मान्यता है कि रमजान–उल–मुबारिक मुस्लिम धर्मानुलंबियों के लिए अल्लाह की तरफ से एक इनाम व इकराम है जिसने इसे पा लिया उसे मिल गया और जिसने ना पाया वह रह गया। इस माह के चांद दिखने के बाद से हि इबादतों, नमाजों, तरावीह व तस्बियों का दौर लगातार सभी मस्जिदों में जारी है, तो वहीं हर मुसलमान समाज के बच्चे व बड़े मस्तुराते मशक्कत के साथ रोजे रख रहे हैं। जिसमें सहरी व इफ्तार की दावते भी जगह-जगह देखने को मिल रही हैं। रमज़ान महीना 3 अशरो में विभाजित होता है, जिनकी मान्यता कुछ इस प्रकार से है –

  1. पहला अशरा – रहमत का (उस रब की बारगाह–ए–करीमी में आंसुओं के चिरागों से उजाला और उसकी रहमत पुकारने के लिए)
  2. दूसरा अशरा – मगफिरत का (मगफिरत की जुस्तजू में और तलब में मसरूफ होने के लिए)
  3. तीसरा अशरा – जहन्नम से आज़ादी के लिए (जहन्नम से आजादी का परवाना लेने के लिए बिन पानी मछली की तरह तड़पने के लिए)

याद रहे की एक अशरा 10 रोज़ों का होता है, ऐसे 3 अशरे 30 दिनों के होते हैं। इन दिनों में सभी मुसलमान पांचों वक्त की नमाज़ पाबंदी के साथ पढ़ते है, वहीं पूरे दिन का रोज़ा भी रखते है, रमजान महीने के आखरी अशरे में 5 रातें जागी जाति है जिनमे पूरी रात ईश्वर की इबादत व रियाज़त की जाती है। इस माह की यह मान्यता भी है की इसमें एक नेकी करने पर 70 नेकियों के बराबर सवाब (पुण्य) प्राप्त होता है।

विदिशा में 10 हजार रुपए की रिश्वत लेते रंगे हाथ पकड़ाया पटवारी

विदिशा जिले की सिरोंज तहसील के पटवारी को लोकायुक्त ने 10 हजार रुपए की रिश्वत लेते रंगेहाथ दबोचा। पटवारी जमीन के रकबा सुधारने के लिए 10 हजार रुपए की रिश्वत मांग रहा था।

जाने क्या है मामला

लोकायुक्त पुलिस ने गुरुवार को विदिशा जिले की सिरोंज तहसील में पटवारी विकास जैन को 10 हजार रुपए की रिश्वत लेते दबोचा है। जानकारी के अनुसार आवेदक रामप्रसाद कुशवाह निवासी ग्राम पारधा ने आवेदन दिया था। कुशवाह ने बताया कि उन्होंने अपने समधी माथुरालाल की खेती की जमीन के रकबे को सुधारने के लिए पटवारी से बात की। पटवारी ने उनको 10 हजार रुपयों की रिश्वत की मांग की। उन्होंने बताया कि मथुरालाल को पटवारी विकास जैन एक साल से चक्कर लगावा रहा है। और वह बिना रिश्वत के काम करने को तैयार ही नहीं था। मथुरालाल के पैर में चोट होने से ज्यादा चलने में उसे दर्द होता है। इसलिए उन्होंने रामप्रसाद कुशवाह को अपना काम कराने के लिए कहा। पटवारी विकास जैन ने रामप्रसाद से 10 हजार रुपए की रिश्वत मांगी और होली के बाद राशि लेकर आना तय किया।

एक कमरे में कर रहा था निजी कार्यालय संचालित

पटवारी ने अपने शासकीय कार्यों के लिए दिल्ली दरवाजा मोहल्ले में एक निजी कक्ष ले रखा है। इसी कक्ष में रामप्रसाद से पटवारी ने 10 हजार रुपए लिए। जहां लोकायुक्त पुलिस ने उसे रंगे हाथों दबोच लिया। भोपाल की टीम में इंस्पेक्टर रजनी तिवारी इंस्पेक्टर नीलम पटवा, प्रधान आरक्षक राजेंद्र पावन, मुकेश सिंह, मुकेश पटेल, अवध बाथवी, संदीप सिंह शामिल थे। तिवारी ने बताया कि पटवारी ने शासकीय कार्य के लिए यह कमरा किराए पर लिया था। इस कमरे में वह अपना निजी कार्यालय संचालित कर रहा था। आरोपित पटवारी के विरुद्ध भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के अंतर्गत कार्रवाई की गई है।

लोकसभा चुनाव का बजा बिगुल, जानिए आपके गांव और शहर में कब डलेगें वोट

लोकसभा चुनाव का बिगुल बज चुका है। इस साल लोकसभा चुनाव की शुरुआत 19 अप्रैल से होगी। जो 7 चरण में 1 जून तक होगें। चुनाव के नतीजे 4 जून को आएंगे। चुनाव के ऐलान के साथ ही पूरे देश में आचार संहिता लग गई है। वही मप्र में भी 4 चरणों में चुनाव होगें। जिसमें पहला चरण 19 अप्रैल, दूसरे चरण 26 अप्रैल, तीसरे चरण 7 मई और चौथे चरण 13 मई को संपन्न होगा।

पूरे प्रदेश में लगी आचार संहिता

प्रदेश के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी अनुपम राजन ने कहा है कि भारत निर्वाचन आयोग द्वारा लोकसभा निर्वाचन 2024 की तारीखों की शनिवार को घोषणा कर दी गई है। इसके साथ ही प्रदेश में आदर्श आचार संहिता भी पूरी तरह से प्रभावशील हो गई है। इसका सख्ती से पालन कराया जाएगा। राजन ने बताया कि प्रदेश में चार चरणों में चुनाव प्रक्रिया संपन्न होगी।

पहले चरण के लिए मतदान 19 अप्रैल, दूसरे चरण के लिए 26 अप्रैल, तीसरे चरण के लिए 7 मई और चौथे चरण के लिए मतदान प्रक्रिया 13 मई को संपन्न होगी। मतगणना 4 जून 2024 को होगी।

पहले चरण में इन सीटों पर

राजन ने बताया कि पहले चरण में छह लोकसभा संसदीय क्षेत्रों सीधी, शहडोल, जबलपुर, मंडला, बालाघाट एवं छिंदवाड़ा में 19 अप्रैल 2024 को मतदान होगा। पहले चरण के लिए अधिसूचना 20 मार्च को जारी होगी। इसी दिन से नामांकन पत्र दाखिल किए जाएंगे। नामांकन पत्र दाखिल करने की अंतिम तिथि 27 मार्च है। 28 मार्च को नामांकन पत्रों की स्क्रूटनी की जाएगी। प्रत्याशी 30 मार्च तक अपने नाम वापस ले सकेंगे। 

26 अप्रैल को इन सीटों पर वोटिंग

दूसरे चरण में 7 लोकसभा संसदीय क्षेत्रों टीकमगढ़, दमोह, खजुराहो, सतना, रीवा, होशंगाबाद एवं बैतूल में 26 अप्रैल 2024 को मतदान होगा। इस चरण के लिए अधिसूचना 28 मार्च को जारी होगी। इसी दिन से नामांकन पत्र दाखिल किए जाएंगे। नामांकन पत्र दाखिल करने की अंतिम तिथि 4 अप्रैल है। नामांकन पत्रों की स्क्रूटनी 5 अप्रैल को की जाएगी। प्रत्याशी 8 अप्रैल तक अपने नाम वापस ले सकेंगे। मतदान 26 अप्रैल को होगा। 

7 मई को इन आठ सीटों पर

तीसरे चरण में आठ लोकसभा संसदीय क्षेत्रों मुरैना, भिंड, ग्वालियर, गुना, सागर, विदिशा, भोपाल एवं राजगढ़ में 7 मई 2024 को मतदान होगा। इस चरण के लिए अधिसूचना 12 अप्रैल को जारी होगी। प्रत्याशी 19 अप्रैल तक नामांकन पत्र जमा कर सकेंगे। 20 अप्रैल को नामांकन पत्रों की स्क्रूटनी की जाएगी। प्रत्याशी 22 अप्रैल तक अपने नाम वापस ले सकेंगे। मतदान 7 मई को होगा। 

चौथा व अंतिम चरण 13 मई को इन सीटों

प्रदेश में मतदान के चौथे व अंतिम चरण में आठ लोकसभा क्षेत्रों देवास, उज्जैन, मंदसौर, रतलाम, धार, इंदौर, खरगोन एवं खंडवा में 13 मई को मतदान होगा। इस चरण के लिए अधिसूचना 18 अप्रैल को जारी होगी। प्रत्याशी 25 अप्रैल तक नामांकन पत्र जमा कर सकेंगे। 26 अप्रैल को नामांकन पत्रों की स्क्रूटनी की जाएगी। प्रत्याशी 29 अप्रैल तक अपने नाम वापस ले सकेंगे। मतदान 13 मई को होगा।

लोकसभा चुनाव से पहले कैबिनेट बैठक का आयोजन, कई महत्वपूर्ण प्रस्ताव को मिली स्वीकृति

गुरुवार को मंत्रालय में प्रदेश के सीएम यादव की अध्यक्षता में कैबिनेट बैठक हुई। इसमें कई प्रस्तावों को मंजूरी दी गयी इसमें मुख्यमंत्री कृषक मित्र अश्विनी योजना, उज्जैन में रेलवे स्टेशन से महाकाल मंदिर समेत चार रोपवे और चित्रकूट विकास प्राधिकरण का गठन शामिल है।

कृषक मित्र अश्विनी योजना के क्रियान्वयन को मंजूरी

लोकसभा चुनाव से पहले गुरुवार को मंत्रालय के कैबिनेट बैठक में कई प्रस्तावों को मंजूरी दी गयी। प्रदेश में अब उन स्थानों पर जहां बिजली लाइनें कठिन हैं और लागत अधिक है, किसानों को सौर कृषि पंप कनेक्शन उपलब्ध कराए जाएंगे। इसके लिए सरकार ने कृषक मित्र अश्विनी योजना के क्रियान्वयन को मंजूरी दे दी है। इस में किसानों/किसानों के समूहों को सौर कृषि पंप कनेक्शन उपलब्ध कराने हेतु वर्तमान में प्रचलित मुख्यमंत्री कृषि मित्र योजना के तहत सौर कृषि पंप कनेक्शन प्रदान किए जायेंगे। मुख्यमंत्री सोलर पंप योजना का विस्तार कर इसे मुख्यमंत्री कृषक मित्र अश्विन योजना नाम दिया है। यूनिवर्सिटी कर्मचारियों को 7वें वेतन आयोग के आधार पर पेंशन देने का भी फैसला कैबिनेट ने किया है।

चित्रकूट विकास प्राधिकरण के गठन को मंजूरी

कैबिनेट ने अयोध्या की तर्ज पर चित्रकुट का विकास करने के लिए चित्रकूट विकास प्राधिकरण बनाने को मंजूरी दी है। इसके लिए 20 करोड़ रुपये की राशि स्वीकृति की गई। साथ ही पद भी सृजित किए जाएंगे। इसकी स्थापना से चित्रकूट में प्राकृतिक, ऐतिहासिक एवं धार्मिक रूप से महत्वपूर्ण इस क्षेत्र का समग्र रूप से विकास किया जाना संभव हो सकेगा। साथ ही संचालनालय नगर तथा ग्राम निवेश द्वारा प्रभावशील विकास योजना के प्रस्तावों का क्रियान्वयन भी संभव हो सकेगा।

इन जगह रोपवे बनाने को स्वीकृति

कैबिनेट ने राष्ट्रीय रोपवे विकास कार्यक्रम-पर्वतमाला के तहत मध्य प्रदेश में प्रस्तावित चार रोपवे परियोजना को स्वीकृति दी दी। यह केंद्र सरकार की योजना है। इसमें रेलवे स्टेशन से महाकाल मंदिर उज्जैन, टिकिटोरिया माता मंदिर (सागर) फनीकुलर, एम्पायर स्टेडियम से गुरुद्वारा (व्हाया रामपुर चौक एवं एवेन्यू मॉल), जबलपुर एवं सिविक सेंटर से बलदेवबाग (व्हाया मालवीय चौक, लॉडगंज, बडाफआारा) जबलपुर में बनने हैं। इसका उद्देश्य रोपवे निर्माण के माध्यम से यातायात सुगम बनाना है।

वंदेभारत को एक बार फिर लगी चोट, इस जानवर ने मारी ट्रेन को टक्कर

भारत की नई सुपरफास्ट ट्रेन की अक्सर चोटिल आने की खबरें सामने आती है। अब एक बार फिर ट्रेन के चोटिल होने की खबर सामने आयी है। इस बार भोपाल से दिल्ली के लिए चलने वाले वंदेभारत ट्रेन के चोटिल होने की खबर सामने आयी है। दरअसल मुरैना में सांड टकरा गया। तेज रफ्तार ट्रेन से हुआ हादसा इतना भीषण था कि सांड के दो टुकड़े हो गए, वहीं ट्रेन का इंजन भी क्षतिग्रस्त हो गया। इस हादसे के कारण ट्रेन करीब 13 मिनट तक मुरैना के पास खड़ी रही। इसके बाद ट्रेन को दिल्ली के लिए रवाना हुई।

सांड के हुए दो टुकड़े

मंगलवार सुबह सवा 10 बजे जैसे ही शिकारपुर रेलवे फाटक के पास आई, इसी दौरान पटरियों पर एक सांड आ गया। तेज रफ्तार ट्रेन ने सांड को टक्कर मारी और इसके बाद करीब एक किलोमीटर दूर तक सांड ट्रेन के आगे घिसटता गया। हादसे में सांड के दो टुकड़े हो गए, वहीं ट्रेन के इंजन की फायबर बाडी भी बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गई। मुरैना रेलवे स्टेशन प्रभारी जयप्रकाश शर्मा ने बताया कि इंजन के आगे फंसे सांड के शव को निकालने के लिए ट्रेन को मुरैना स्टेशन के पास सुबह 10.16 बजे से 10.29 बजे तक रोकना पड़ा।

MP में नहीं चलेगी निजी स्कूलों की मनमानी, सरकार को देनी होगी फीस की जानकारी

फीस, पाठ्यक्रम, यूनिफॉर्म, किताब और कॉपी कि सूची को 31 मार्च तक माध्यमिक शिक्षा मंडल को उपलब्ध कराने का फरमान सभी निजी स्कूलों के लिए जारी कर दिया गया है।

भोपाल माध्यमिक शिक्षा मंडल: प्रदेश में आए दिन प्राइवेट स्कूलों की तानाशाही की शिकायतें मिलती रहती हैं। जिस पर रोक लगाने के लिए माध्यमिक शिक्षा मंडल ने कड़े कदम उठाए हैं। शिक्षा मंडल के जारी आदेश में कहा गया है कि 31 मार्च तक प्रेदेश के सभी निजी स्कूलों को फीस, अन्य शुल्क, यूनिफॉर्म, किताबों की सूची अपने जिला शिक्षा अधिकारी को उपलब्ध करानी होगी।

31 मार्च तक दे सकते हैं जानकारी

भोपाल संभाग के संयुक्त संचालक अरविंद कुमार चौरगड़े ने जिला शिक्षा अधिकारियों को आदेश जारी किए हैं कि जिले में सभी माध्यमिक शिक्षा मंडल के निजी स्कूल, सीबीएसई व आइसीएसई बोर्ड के स्कूल प्री-प्रायमरी, पहली से लेकर 12वीं कक्षा में चलाई जाने वाली किताबें व कापियों की सूची व यूनिफार्म की जानकारी 31 मार्च तक उपलब्ध कराएं।

जानकारी स्कूल वेबसाइट पर भी डालना जरुरी

जारी आदेश में कहा गया है कि स्कूल के सूचना पटल पर प्रदर्शित करते हुए स्कूल की वेबसाइट पर भी अपलोड की जाए जानकारी। इसकी एक सूची जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय (डीइओ) में भी मंगवाएं।

संयुक्त संचालक अरविंद कुमार ने कहा स्कूलों की मनमानी के कारण कदम उठाए हैं जिससे यह सुनिश्चित हो सके कि किसी एक विक्रेता का एकाधिकार न हो। साथ ही जिन स्कूलों ने बिना पाठ्यक्रम परिवर्तित किए हुए, पिछले वर्ष की प्रचलित किताबों व प्रकाशकों को परिवर्तित किया है।

प्रदेश के मजदूरों की हुईं चांदी – चांदी, प्रदेश सरकार ने बढ़ाई इतने गुना आमदनी, ई स्कूटर खरीदने के लिए भी मिलेंगे 40 हजार रुपये

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री मोहन यादव ने एक बड़ा ऐलान किया है।मुख्यमंत्री ने रविवार को कहा कि राज्य सरकार इलेक्ट्रिक स्कूटर खरीदने के लिए मजदूरों को 40,000 रुपये की आर्थिक सहायता प्रदान करेगी। साथ ही मुख्यमंत्री ने मजदूरों की मजदूरी दर में लगभग 5 गुना की वृद्धि की है।

श्रमिकों को ई-स्कूटर खरीदने के लिए 40,000 रुपये की सहायता

मुख्यमंत्री मोहन यादव ने इस दौरान जनता को कई अन्य सौगात भी दिए है। उन्होंने कहा, “हमने मजदूरों की मृत्यु या दिव्यांगता के मामले में वित्तीय सहायता राशि मौजूदा एक लाख रुपये से बढ़ाकर चार लाख रुपये कर दी है।” उन्होंने कहा कि श्रमिकों को ई-स्कूटर खरीदने के लिए 40,000 रुपये की सहायता प्रदान की जाएगी। उन्होंने विभिन्न श्रेणियों के श्रमिकों के वेतन में बढ़ोतरी की भी घोषणा की। मुख्यमंत्री ने कहा कि अकुशल श्रमिकों की मासिक मजदूरी बढ़ाकर 11,450 रुपये, अर्ध-कुशल की 12,446 रुपये और खेतिहर मजदूरों की 9,160 रुपये की जा रही है। मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव आज ग्वालियर में आयोजित विभिन्न कार्यक्रमों में शामिल हुए।

मध्य प्रदेश में मजदूरों की नवीन मजदूरी दर

खेतिहर मजदूर 1396 से 9160 मासिक

अकुशल श्रमिक 1625 से 11450 मासिक

अर्ध कुशल श्रमिक 1764 से 12446 मासिक

मजदूरों की दिव्यांगता एवं मृत्यु के आधार पर मिलने वाली सहायता राशि बढ़कर ₹4 लाख होगी।

श्रमिकों को ई-स्कूटर खरीदने के लिए ₹40,000 की आर्थिक सहायता दी जाएगी।पार्ट टाइम मजदूरी करने वालों को संबल योजना से जोड़ा जाएगा।

जानिए कैसे लगी वल्लभ भवन में अचानक लगी भीषण आग, कई अहम दस्तावेज जलकर राख

शनिवार को मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में शनिवार सुबह बड़ा हादसा हुआ। वल्लभ भवन के 1, 4, 5, 6 वीं मंजिल पर अचानक आग लग गई। बताया जा रहा है कि आग में कई महत्वपूर्व दस्तावेज जलकर खाक हो गए हैं। इमारत की तीसरी मंजिल में लगी आग ने कुछ ही देर में विकराल रूप ले लिया। फिलहाल 5 घंटे की मशक्कत के बाद आग पर काबू पा लिया गया है।

5 घंटे बाद सेना की मदद से पाया काबू

वल्लभ भवन में मध्य प्रदेश का सचिवालय है। मुख्यमंत्री समेत मंत्रियों के दफ्तर भी यहीं है। भवन के पांचवें फ्लोर पर मुख्यमंत्री का दफ़्तर है।फ़िलहाल आग लगने के कारणों का पता नहीं चल पाया है। आग बुझाने में लगे 3 दमकल कर्मी भी घायल हुए। बताया जा रहा है कि जहां आग लगी वहां राज्य के मंत्रियों के दफ्तर हैं।

5वीं मंजिल के सभी दस्तावेज जलें

5वीं मंजिल में रखे फर्नीचर और दस्तावेज पूरी तरह जलकर खाक हो गए है। SDERF, NDRF और सेना की टुकड़ी की मदद से आग पर काबू पाया गया। भोपाल के आसपास के जिलों से भी दमकल की टीमें बुलाई गई थीं। बता दें कि वल्लभ भवन प्रदेश शासन का सबसे अहम कार्यालय है, जिसमें मुख्यमंत्री समेत कई मंत्रियों के दफ्तर हैं। यहां सरकारी विभागों से जुड़े अहम दस्तावेज रखे हुए थे।

बताया जा रहा है कि आग में कई अहम दस्तावेज जलकर राख हो गए हैं। जोन-2 DCP श्रद्धा तिवारी ने बताया, “फोर्स तुरंत यहां पहुंच गई थी, जितने भी फायर ब्रिगेड हैं उनको बुला लिया गया। दूसरी और तीसरी मंजिल की आग पर काबू पा लिया गया। अभी आग के कारणों का पता नहीं चल पाया है।”