Wed. Apr 24th, 2024

मोहन का राम के प्रति समर्पण अयोध्या में धर्मशाला, घाट बनाएंगे MP के सीएम

अयोध्या में Mohan सरकार प्रदेशवासियों के लिए व्यवस्था कर रही है, सरकार अयोध्या में धर्मशाला का निर्माण करेगी

Ram Mandir के उद्धघाटन के बाद से BJP शासित राज्यों की सरकारें सीएम और मंत्री मंडल के साथ अयोध्या दर्शन के लिए जा रहे हैं। इसी कड़ी में मध्यप्रदेश के सीएम Dr Mohan Yadav भी अपने मंत्री मंडल के साथ 4 मार्च को अयोध्या जाने के लिए रवाना हुए हैं। दर्शन के लिए।

जमीन मिली तो बनवाएँगे धर्मशाला

सीएम ने कहा कि अगर सरकार को अयोध्या में जमीन मिलती है तो वहाँ धर्मशाला बनाएंगे जिससे प्रदेश से अयोध्या जाने वाले श्रद्धालुओं को परेशानी न हो।

सम्राट विक्रमादित्य ने 2000 साल पहले बनाया था मंदिर

सीएम यादव ने कहा “भगवान राम का मध्य प्रदेश से खास संबंध है। सम्राट विक्रमादित्य ने 2000 साल पहले अयोध्या में बड़ा भव्य मंदिर बनवाया था। अगर सरयू के किनारे भूमि उपलब्ध हुई तो हमारी सरकार विक्रमादित्य घाट बनाने का भी प्रयास करेगी।”

सीएम मोहन यादव ने मीडिया को बातचीत में बताया कि, ”22 जनवरी को पीएम मोदी और सरसंघचालक मोहन भागवत की मौजदूगी में राम मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा का कार्यक्रम हुआ। यह भारत का सांस्कृतिक अनुष्ठान पर्व था जिससे पूरे देश में ऊर्जा का वातावरण पैदा हुआ है। ऐसे में हमने मंत्रीमंडल के साथ चार मार्च को अयोध्या जाने का फैसला किया है। हम रामराज्य के सपने को साकार करने के लिए संकल्पित हैं और आगे बढ़ेंगे।

रामलला की आरती में शामिल होने के लिए ऑफलाइन बुकिंग शुरू, जानिए आप कैसे हो सकते है रामलला की आरती में शामिल

रामलला के प्राण प्रतिष्ठा के बाद से ही अयोध्या में भक्तों का ताता लगा हुआ है, लगातार लाखों की संख्या में भक्त रामलला के दर्शन के लिए पहुंच रहे है। तो वहीं भक्तों की सुविधा को देखते हुए राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की ओर से तमाम व्यवस्थाएं की जा रही हैं। इसी क्रम में भारी भीड़ के चलते बंद की गई ऑनलाइन आरती पास की सुविधा फिर से शुरू कर दी गई है। राम मंदिर उद्घाटन के दूसरे ही दिन यानी 23 जनवरी को ही दर्शन के लिए मंदिर के पट खोल दिए गए थे। तो वहीं भक्तों में रामलला की आरती का साक्षी बनने को भक्तों में रामलला की आरती में शामिल होने की उत्सुकता इस प्रकार बढ़ी हुई है कि आगामी 28 फरवरी तक के लिए सभी पास बुक हो चुके हैं।

ऑनलाइन पास की संख्या में वृद्धि की तैयारी

रामलला की आरती में शामिल होने के लिए बन रहे ऑनलाइन पास की संख्या में वृद्धि की तैयारी की जा रही है। अभी केवल 20-20 पास ही निर्गत किए जा रहे हैं, लेकिन धीरे-धीरे इसकी संख्या बढ़ाई जाएगी। ट्रस्ट की ओर से बताया जा रहा है कि एक सप्ताह के भीतर यह सुविधा भी शुरू कर दी जाएगी। श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट कार्यालय के काउंटर से पास जारी किए जाने की सुविधा फिलहाल अभी बंद है, लेकिन यह सुविधा भी जल्द ही शुरू की जाएगी।

आरती पास के लिए कैसे करें ऑनलाइन बुकिंग

अयोध्या के राम मंदिर के आरती पास की बुकिंग के लिए ट्रस्ट की वेबसाइट srjbtkshetra.org पर जाकर आवेदन किया जा सकता है। जानकारों के अनुसार, 10 साल तक के बच्चों के लिए ऑनलाइन पास की जरूरत नहीं है। वे पासधारक के साथ बिना पास के भी आरती में शामिल हो सकते हैं। आरती में शामिल होने के लिए पास के साथ एक परिचय पत्र यानी आइडेंटिटी कार्ड भी अपने साथ रखना अनिवार्य है। यदि कोई भक्त किसी कारण से पास कैंसिल करता है तो उसके स्थान पर किसी दूसरे भक्त के लिए बुकिंग की जा सकेगी। किसी भी सूरत में पास का हस्तानांतरण मान्य नहीं होगा। बुकिंग होने के 24 घंटे के अंदर पास को कैंसिल भी कराया जा सकता है। इसके लिए ट्रस्ट की वेबसाइट पर ऑप्शन दिए गए हैं। आरती की तिथि के 24 घंटे पहले ट्रस्ट की ओर से श्रद्धालु के ईमेल आईडी पर एक रिमाइंडर भी भेजा जाएगा।