Sat. Jun 15th, 2024

सोशल मीडिया पर दुर्लभ कश्यप ने लगाई ऑनलाइन हथियारों की दुकान, साइबर टीम आज से करेगी गिरफ्तारी

मध्यप्रदेश के उज्जैन में बहुचर्चित दुर्लभ कश्यप की मौत भले ही कुछ सालों पहले है गई हो लेकिन उनकी मौत के बाद उसका गैंग सोशल मीडिया पर फिर से एक्टिव हो गया है, और गैर कानूनी हथियारों को बेच रहा है। इस गैंग ने फेसबुक के माध्यम से ऑनलाइन हथियारों की बिक्री चालू कर दी है।

हथियारों से जुड़ी वीडियो सोशल मीडिया पर शेयर की

महाकाल की नगरी उज्जैन में एक बार फिर से दुर्लभ कश्यप का गैंग सोशल मीडिया पर एक्टिव हो गया है, और अवैध रूप से खुले आम हथियारों की बिक्री कर रहा है। सोशल मीडिया में की गई एक पोस्ट ने पूरे जगह सनसनी मचा दी है, जिसमें से कुछ युवक अपने आप को दुर्लभ कश्यप के गैंग का बोल कर हथियारों को खुलेआम फेसबुक पर बेच रहे है।

वीडियो में क्या था?

सोशल मीडिया फेसबुक में 25 अप्रैल 2023 को एक वीडियो पोस्ट किया गया है, जिसमें युवक का चेहरा तो नहीं दिखाई दे रहा हैं लेकिन उसके कमर में दर्जनों बंदूक की गोली और कई अलग अलग की तरह की पिस्टल हाथ और कमर में दिख रही है।फेसबुक पेज की प्रोफाइल में दुर्लभ कश्यप की फोटो भी लगी हुई है। जिस दिन इन्होंने वीडियो पोस्ट की थी उसी दिन दो विज्ञापन भी अपलोड किया था। उसकी कमर में पिस्टल, कट्टा, कई कारतूस, बंदूक लटकी है। एक हाथ में पिस्टल और दूसरे में बका है। बैक ग्राउंड में म्यूजिक भी बज रहा है।

वहीं, दूसरे वीडियो में टेबल पर रखी पांच पिस्टल भी दिखाई दे रही हैं। एक पिस्टल को उठाकर कोई दिखाता भी है, फिर वापस रख देता है।और इसी तरह एक ग्रुप और बनाया है कोहिनूर ग्रुप नाम से जिसके इंट्रो में लिखा है की पीवर बदमाश, मुखतः अपराधी 302, कोहिनूर ग्रुप उज्जैन देसी कट्टा,पिस्टल ऑनलाइन होम डिलीवरी, 93369-39678 हथियारों को बेचने के लिए गैंग ने अपना नंबर भी अपनी आईडी में मेंशन किया है।

पुलिस अधीक्षक सचिन शर्मा ने क्या कहा

इस मामले में पुलिस अधीक्षक सचिन शर्मा ने बताया की सोशल मीडिया पर डाली गई इस पोस्ट और नंबर को ट्रैस कर पुलिस टीम और साइबर टीम आज से कार्यवाही प्रारंभ कर दोषियों की गिरफ्तारी करेगी। पुलिस पूरे मामले को गंभीरता से ले रही हैं और इस प्रकार के पोस्ट डालने वाले लोगों के खिलाफ पुलिस कड़ी से कड़ी कार्यवाही करेगी ऐसा बोल रही है।

छोटी उम्र में ही डॉन बन गया था दुर्लभ कश्यप

दुर्लभ बहुत कम उम्र में कई बड़े अपराधों को अंजाम दे चुका था। उसने बहुत छोटी सी उम्र में ही कई बड़े बड़े कारनामे किए थे।दुर्लभ कश्यप सितंबर 2020 में अपने कुछ साथियों के साथ बाइक से उज्जैन के हेलावाड़ी क्षेत्र में चाय पीने पहुंचा था। यह इलाका पूर्व से ही KKC गैंग का था। गैंग का लीडर रमीज हेलावाड़ी था। जिस दुकान में दुर्लभ चाय पीने गया, उसका मालिक रमीज का भाई अमन भूरा था। भूरा ने दुर्लभ को पहचान लिया था। इसके बाद दोनों गैंग के बीच हाथापाई शुरू हो गई। आरोपियों ने दुर्लभ पर चाकू से 30 से ज्यादा वार किए, जहां पर दुर्लभ की मौके पर ही मौत हो गई थी। लेकिन उसके नाम को जिंदा रखने के लिए उसकी गैंग फिर से ऐक्टिव हो गई है।

सपंर्क क्रांति एक्सप्रेस से दिल्ली जा रहे किसानों को ट्रेन से उतारा, प्रदेशभर में 150 को लिया हिरासत में

किसान आंदोलन के लिए भोपाल से तथा भोपाल से होकर भी किसान हो रहे दिल्ली के लिए रवाना। पुलिस ने कुछ किसानों पर अपनी नजरें टिकाई है। प्रदेशभर में ऐसे सैंकड़ों किसानों को पुलिस ने किया गिरफ्तार ऐसा बताया जा रहा है की करीब 150 किसानों को गिरफ्तार किया गया है।

किसानों ने फिर भरी हुकांर

एक बार फिर से प्रदेश भर के किसानो ने अपनी मांगों को लेकर दिल्ली में की घेराबंदी की तैयारी। पूरे देश के किसानों ने अलग-अलग माध्यम से दिल्ली पहुंचने का प्रबंध कर लिया हैं। कोई बस से कोई ट्रैक्टर से तो कोई ट्रेन से सभी ने अपना-अपना जुगाड़ कर लिया है दिल्ली तक पहुंचने का। और अब तो पुलिस ने भी अपनी कमर कस ली है किसानों को रोकने के लिए। किसानों और किसान नेताओं को हिरासत में लिया जा रहा है जो भी राज्य के किसानो को रोकने का प्रयास कर रहे है। और इधर पुलिस अधिकारियों का कहना है कि नई दिल्ली में धारा 144 की घोषणा की गई हैं, इसलिए किसानों को वहां जाने से रोका जा रहा है।

किसानो का धरना प्रदर्शन 16 फरवरी को राजधानी दिल्ली में होने जा रहा हैं। 16 फरवरी को ग्रामीण भारत बंदी का ऐलान भी किया जा रहा है। इसके लिए किसान भारी संख्या में अलग-अलग जगहो से आकर दिल्ली में आंदोलन के लिए इक्ठ्ठे हो रहें हैं। पुलिस ने इन किसानो पर अपनी नजरे टिका रखी हैं। बताया जा रहा है की प्रदेशभर में करीबन 150 किसानों को गिरफ्तार कर जेल में डाल दिया है। प्रदेश में संयुक्त किसान मोर्चा द्वारा दिल्ली कूच का आव्हान किया गया है। पुलिस ने रविवार की रात से ही किसानों को गिरफ्तार करना शुरु कर दिया है और गिरफ्तार कर किसानों को थानों में बैठाया है। प्रदेश की राजधानी भोपाल के अलावा नर्मदापुरम, ग्वालियर, इंदौर आदि जगहों पर किसान नेताओं को पुलिस ने रोका हैं। किसान के नेता शिवकुमार का कहना है कि 300 किसानों को पुलिस ने अपनी हिरासत में लिया है।

सपंर्क क्रांति एक्सप्रेस से 50 किसानों को उतारा

भोपाल की बजरिया पुलिस को सूचना देकर बताया की कर्नाटक से दिल्ली की तरफ जा रही सपंर्क क्रांति एक्सप्रेस में 50 किसान दिल्ली की ओर जा रहे हैं। खबर मिलते ही पुलिस ने इस पर कार्यवाही प्रारंभ कर दी थी। भोपाल रेलवे स्टेशन पर पहुंच कर पुलिस ने किसानों को ट्रेन से नीचे उतारा। बजरिया थाना प्रभारी जीतेन्द्र गुर्जर ने बताया है की ट्रेन से उतारे गए सभी किसानों को फिलहाल अलग-अलग जगहों पर ठहराया गया है और उन्हें उनके शहर वापस भेज दिया जाएगा।

दिल्ली में प्रदर्शन करने वाले संगठनों में से एक संयुक्त मोर्चा का आरोप है की धारा 151 शांतिभंग करने के तहत किसानों को गिरफ्तार किया जा रहा है। किसानों को जमानत भी नहीं दी जा रही है। किसानों ने इस मामले में कहा है की यह लोकतंत्र के खिलाफ है और संविधान के विरुध्द है इसमें कार्यवाही की जाए। किसानों के नेता शिवकुमार कक्का को भोपाल में,आराधना भार्गव को मुलताई में, अनिल यादव को एमपी नगर भोपाल में, रामनारायण को कुरेरिया को जबलपुर में तथा शत्रुघ्न यादव को ग्वालियर में रोक दिया गया है।