Wed. Apr 24th, 2024

कांग्रेस ने जारी की लोकसभा उम्मदीवारों की दूसरी सूची, एमपी की 10 सीटों पर इन दिग्गजों को उतारा

मंगलवार को अखिल भारतीय कांग्रेस ने लोकसभा के लिए अपने उम्मदीवारों की दूसरी सूची जारी कर दी है। जहां देश भर की 43 सीटों के लिए कांग्रेस ने अपने उमीदीवारो के नाम जारी किये है। इनमे 10 एमपी के उम्मीदवारो के भी नाम शामिल है। 10 प्रत्याशियों में छिंदवाड़ा सीट से मौजूदा सांसद नकुलनाथ का नाम है। कांग्रेस ने अपनी साख बचाने के लिए तीन मौजूदा विधायकों को चुनाव मैदान में उतारा है। वहीं, दिग्गज नेताओं के चुनाव लड़ने से इनकार के बाद नए चेहरे को मौका दिया गया है। इसमें इंदौर, भोपाल, जबलपुर और ग्वालियर समेत 18 नामों को अभी होल्ड पर रखा गया है।

नकुलनाथ एक बार फिर छिंदवाड़ा से मैदान में

पूर्व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमल नाथ की उपस्थिति में नकुल नाथ ने पहले ही साफ कर दिया था कि वे ही चुनाव लड़ेंगे। वें एक बार फिर छिंदवाड़ा से चुनाव लड़ रहे हैं। वही पार्टी ने तीन विधायक और एक पूर्व विधायक पर दांव लगाया गया है। अनुसूचित जनजाति के लिए सुरक्षित मंडला से विधायक ओमकार सिंह मरकाम को टिकट दिया है तो रामू टेकाम पर भरोसा जताते हुए फिर बैतूल से मैदान में उतारा है। कांग्रेस ने मध्य प्रदेश में अनुसूचित जनजाति वर्ग के लिए सुरक्षित छह सीटों में से चार के प्रत्याशी घोषित कर दिए हैं।

इसमें धार से राधेश्याम मुवेल को मैदान में उतारा गया है। मुवेल आदिवासी कांग्रेस के प्रदेश उपाध्यक्ष हैं और युवा कांग्रेस में लंबे समय तक काम कर चुके हैं। खरगोन से पोरलाल खरते को मैदान में उतारा है। अगस्त 2023 में उन्होंने सेल्स टैक्स अधिकारी की नौकरी छोड़कर कांग्रेस की सदस्यता ली थी और सेंधवा से विधानसभा की टिकट मांग रहे थे।

8 नए प्रत्याशी मैदान में

कांग्रेस ने दस में से आठ सीटें के प्रत्याशी बदले हैं। पिछली बार भिंड से देवाशीष जरारिया, टीकमगढ़ से किरण अहिरवार, सतना से राजाराम त्रिपाठी, सीधी अजय सिंह, मंडला कमल सिंह मरावी, देवास प्रहलाद सिंह टिपानिया, धार से दिनेश ग्रेवाल और खरगोन से डा. गोविंद मुजाल्दा को प्रत्याशी बनाया था।

उज्जैन में लगेगा उद्योगपतियों का मेला, प्रदेश में सिंगापुर के उद्योगपति और कंपनियां करेंगे निवेश

लोकसभा चुनाव के सिंगापुर की कंपनी पवन ऊर्जा और सौर ऊर्जा के क्षेत्र में निंवेश के लिए मध्य प्रदेश आने की इच्छुक है। प्रतिनिधि मंडल ने बताया कि उन्होंने भोपाल में ग्लोबल स्किल पार्क का भ्रमण किया है और स्किल के तकनीकी कोर्स में सिंगापुर भी एक सांझेदार है। मुख्यमंत्री डा. मोहन यादव ने मुख्यमंत्री निवास पर भारत में सिंगापुर के उच्चायुक्त साइमन वांग के प्रतिनिधिमंडल के साथ सौजन्य भेंट की।

प्रदेश के हर क्षेत्र में निवेश की अपार संभावनाएं : मुख्यमंत्री

सिंगापुर की कंपनी सैमकाम ग्रीन ऊर्जा के क्षेत्र में निवेश करती है। लोकसभा चुनाव के बाद यह कंपनी पवन ऊर्जा और सौर ऊर्जा के क्षेत्र में निवेश के लिए मध्य प्रदेश आने की इच्छुक है। प्रतिनिधि मंडल ने बताया कि उन्होंने भोपाल में ग्लोबल स्किल पार्क का भ्रमण किया है और स्किल के तकनीकी कोर्स में सिंगापुर भी एक साझेदार है। उच्चायुक्त वांग ने मुख्यमंत्री को सिंगापुर आने के लिए आमंत्रित भी किया। प्रतिनिधिमंडल में सिंगापुर के कान्सुलेट जनरल चियोंग मिंग फूंग, फर्स्ट सेक्रेटरी (पालिटिकल) सीन लिम, फर्स्ट सेक्रेटरी (इकोनामिक) विवेक रागुरामन, वाइस कोंसुल (पालिटिकल) जाकाउस लिम और पालिटिकल एक्सोनामिकल विशेषज्ञ एरिका मारिया साथ थी।

उच्चायुक्त वांग ने बताया कि वह पहली बार मध्य प्रदेश आए हैं। मुख्यमंत्री ने प्रतिनिधिमंडल का शाल और पुष्पगुच्छ भेंट कर स्वागत किया। इस मौके पर मुख्यमंत्री ने कहा की प्रदेश के हर क्षेत्र में निवेश की अपार संभावनाएं हैं। निवेश के लिए इच्छुक सभी संस्थाओं को आवश्यक सहायता उपलब्ध कराई जाएगी।

मध्यप्रदेश को मिला पीएम मोदी से मिला बड़ा तोहफा, प्रदेश को दी 17,500 करोड़ की परियोजनाओं की सौगात

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एमपी को बड़ी सौगात दी है। उन्होने वर्चुअली जुड़कर 17,500 करोड़ रुपये की लागत वाली परियोजनाओं का शिलान्यास और लोकार्पण किया। इसमें पेयजल और सिचाईं की परियोजनाएं हैं। इनमें बिजली, सड़क, रेल, खेल परिसर सामुदायिक सभागार और अन्य उद्योगो में जुड़े प्रोजेक्ट्स हैं। इस मौके पर पीएम मोदी ने मध्य प्रदेश की जनता को संबोधित भी किया।

भाजपा सरकार यानी गति भी और प्रगति भी

मध्यप्रदेश की जनता को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि खेती, उद्योग और टूरिज्म पर फोकस कर रही है। मां नर्मदा पर बन रही तीन जल परियोजनाओं का शिलान्यास हुआ है। इनसे सिंचाई और पेयजल की समस्याओ का निराकरण होगा। मध्य प्रदेश में केन-बेतवा लिंक परियोजना से बुंदेलखंड के लाखों परिवारों का जीवन बदलने वाला है। किसानों के खेत तक पानी पहुंचता है तो इससे बड़ी सेवा क्या हो सकती है? भाजपा सरकार और कांग्रेस की सरकार के बीच का क्या अंतर होता है, इसका उदाहरण सिंचाई परियोजना भी है। 2014 से पहले के दस वर्षों में देश में लगभग 40 लाख हैक्टेयर भूमि को सूक्ष्म सिंचाई के दायरे में लाया गया था। बीते दस वर्ष के हमारे सेवाकाल में हमने दोगुना लगभग 90 लाख हैक्टेयर खेती को सूक्ष्म सिंचाई से जोड़ा गया है। यह दिखाता है कि भाजपा सरकार की प्राथमिकता क्या है, यह दिखाता है कि भाजपा सरकार यानी गति भी और प्रगति भी।

जिसे कोई नहीं पूछता है, उन्हें मोदी पूछता है

मध्यप्रदेश के युवाओं को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि आपके सपने को पूरा करना ही मोदी का संकल्प है। उन्होंने कहा कि मध्य प्रदेश आत्मनिर्भर भारत, मेक इन इंडिया का मजबूत स्तंभ बनेगा। मुरैना के सीतापुर में मेगा लेजर एंड फुटवेयर क्लस्टर, इंदौर में रेडीमेड गारमेंट इंडस्ट्री के लिए पार्क, मंदसौर में इंडस्ट्रियल पार्क का विस्तार, धार में इंडस्ट्रियल पार्क का निर्माण इसी दिशा में उठाए जा रहे कदम है। कांग्रेस की सरकारों ने मैन्युफैक्चरिंग की हमारी पारंपरिक ताकत को भी बर्बाद कर दिया था। खिलौना बनाने की हमारी बड़ी परंपरा रही है। स्थिति यह थी कि कुछ साल पहले तक हमारे बाजार और घर विदेशी खिलौनों से भरे पड़े थे। हमने देश के खिलौने बनाने वाले पारंपरिक परिवारों को विश्वकर्मा परिवार के तौर पर मान्यता दी। विदेशों से खिलौनों का आयात कम हो गया है। जितने खिलौने हम आयात कर रहे थे, उससे दोगुना हम निर्यात कर रहे हैं। बुधनी के खिलौना बनाने वालों के लिए अनेक अवसर मिलने वाले हैं। इससे खिलौना निर्माण को बल मिलेगा। जिन्हें कोई नहीं पूछता है, उन्हें मोदी पूछता है।

मध्य प्रदेश अजब है और गजब भी है

पीएम मोदी ने कहा कि पर्यटन में भी बढ़ोतरी हो रही है। इसका लाभ मध्य प्रदेश को भी मिल रहा है। मध्य प्रदेश अजब है और गजब भी है। ओंकारेश्वर और ममलेश्वर में श्रद्धालुओं की संख्या में भारी बढ़ोतरी हुई है। ओंकारेश्वर में विकसित किए जा रहे एकात्म धाम की वजह से यह संख्या और बढ़ेगी। 2028 में उज्जैन में सिंहस्थ होने वाला है। इच्छापुर से इंदौर तक फोन लेन बनने से श्रद्धालुओं को सुविधा होगी। रेल परियोजनाओं से भी मध्य प्रदेश की कनेक्टिविटी भी सशक्त होगी।