Sat. Apr 13th, 2024

तीन दशक के बाद एमपी को मिली महिला मुख्य सचिव, जानिए कौन है नई मुख्य सचिव वीरा राणा

मध्यप्रदेश सरकार ने 1988 बेच की वरिष्ठ आईएएस अधिकारी वीरा राणा को मध्यप्रदेश का मुख्य सचिव पद नियुक्त कर दिया है वे इस पद को मार्च 2024 तक सम्भालेंगी। राणा अब तक मुख्य सचिव पद का अतिरिक्त प्रभार संभाल रही थी। इस पद पर निर्मला बुच के बाद वे दूसरी महिला होंगी। दो बार के कार्यकाल के विस्तार के बाद इक़बाल सिंह बैस 30 नवंबर 2023 के सेवानिवृत्त हो गए थे। जिसके बाद चुनावी आचार संहिता लागू होने के कारण वीरा राणा को अतिरिक्त मुख्य सचिव बनाया गया था।

पहली बार हुआ ऐसा?

मध्यप्रदेश के गठन के बाद ऐसा पहली बार हुआ कि मतदान के दिन अलग चीफ सेक्रेटरी था और मतगणना के दिन अलग। वोटिंग के दिन इक़बाल सिंह बैस और 3 दिसम्बर को राणा ने प्रदेश के मुख्य सचिव पद कि कमान संभाल ली थी।

किन पदों पर रहा चुकी हैं

मुख्य सचिव बनने से पहले मध्यप्रदेश माध्यमिक शिक्षा मंडल की अध्यक्ष, राज्य की मुख्य निर्वाचन अधिकारी, खेल और युवा कल्याण विभाग की एडिशनल चीफ सेक्रेटरी, प्रशासन अकादमी में महानिदेशक, कुटीर और ग्रामोद्योग विभाग और सामान्य प्रशासन विभाग कार्मिक जैसे महत्वपूर्ण विभागों के साथ मध्यप्रदेश के दो जिले जबलपुर और विदिशा जिले की कलेक्टर की जिम्मेदारी संभाल चुकी हैं।

राज्यपाल आनंदीबेन से रहा विवादों का नाता

2018 में तत्कालीन मध्यप्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने सरकार से अपने पीएस पद के के लिए एक महिला आईएएस की अनुसंशा की थी और वर्तमान सरकार ने वीरा राणा को इस पद पर नियुक्त कर दिया था। एक पखवाड़े काम करने के बाद ही उनकी राज्यपाल कॉफ़ी टेबल के प्रकाशन को लेकर अनबन हो गई थी जिसके बाद वे चाइल्ड केयर लीव पर चली गई थी जिसके बाद सरकार ने उन्हें अन्य पड़ पर नियुक्त किया था।

मिल सकती है सेवावृद्धि

2024 के लोकसभा चुनाव के मद्देनजर ऐसा माना जा रहा है कि सरकार ने उनके कार्यकाल में वर्द्धि कर सकती है। वीरा राणा मार्च में सेवानिवृत्त हो जायेंगी और चुनावी आचार संहिता के सरकार नहीं चाहेगी की मुख्य सचिव की नियुक्ति के गेंद चुनाव आयोग के हाथ में चली जाए ऐसे में सरकार उन्हें फरवरी के अंत तक उनका सेवावृद्धि का आदेश जारी कर सकती है।

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *