Tue. Apr 23rd, 2024

बीजेपी का ‘प्लान 25 फरवरी’ और अमित शाह के भोपाल दौरे से कांग्रेस का दिल्ली दरबार टेंशन में: राजनीतिक प्रतिस्पर्धा में बढ़ सकता है तनाव

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह 25 फरवरी को भोपाल में बीजेपी नेताओं के साथ बैठक करेंगे।उनका सरकारी योजनाओं का लाभ पाने वाले तीन परिवारों से भी मुलाकात करने का प्लान है। इन परिवारों से उन्हें सरकार की योजनाओं के बारे में जानकारी मिलेगी। इस दौरे को कई मायनों में महत्वपूर्ण माना जा रहा है, क्योंकि बीजेपी का लक्ष्य है 51 प्रतिशत वोट शेयर प्राप्त करना, जिसमें हर बूथ पर 370 वोट प्राप्त करना शामिल है। इस समय, अमित शाह का दौरा राहुल गांधी की “भारत जोड़ो” यात्रा से पहले मध्यप्रदेश में हो रहा है, जिससे बीजेपी अपने कार्यकर्ताओं का मोराल/ उत्साह ऊंचा करना चाहती है।

हाइलाइट्स :–

25 फरवरी को एमपी दौरे पर आएंगे अमित शाह
कांग्रेस के कई नेता बीजेपी में हो सकते हैं शामिल
ग्वालियर, खजुराहो और भोपाल में शाह के कार्यक्रम
25 फरवरी को एमपी में बड़े फेरबदल की चर्चाएं तेज

मध्य प्रदेश में पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ और उनके बेटे नकुलनाथ के भाजपा में शामिल होने पर चल रही विवादों पर अब भी ध्यान दिया जा रहा है, लेकिन इसके बाद भी कांग्रेस में दल-बदल की गति तेजी से बढ़ती जा रही है। आने वाले 25 फरवरी को होने वाले बड़े दल-बदल के बारे में फिर से चर्चाएं चल रही हैं। यह सच है कि राज्य में लोकसभा चुनाव से पहले कई कांग्रेस नेता भाजपा में शामिल हो रहे हैं। जबलपुर के मेयर जगत सिंह अन्नू और पूर्व अटॉर्नी जनरल शशांक शेखर के अलावा मीडिया विभाग के पूर्व अध्यक्ष अजय सिंह यादव जैसे कांग्रेस के नेता और कार्यकर्ता भाजपा में शामिल हो चुके हैं।

मध्य प्रदेश में कांग्रेस में दल-बदल की गति तेजी से बढ़ रही है और इसके परिणामस्वरूप कई कांग्रेस नेता भाजपा में शामिल हो रहे हैं। यह विवादों का समय है और इससे पार्टी को समुदाय के भीतर एकता और समर्थन की आवश्यकता है। इससे पार्टी की भविष्य में प्रतिबद्धता कम हो सकती है। इस संकट का सामना करने के लिए पार्टी को मजबूती से सामना करना होगा और सही नेताओं का चयन करना होगा।

जिसको जाना है वह जाएं

मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव तो यहां तक कह रहे हैं कि कुछ लोग भाजपा परिवार में जुड़ना चाह रहे हैं, लेकिन अभी नहीं जुड़े हैं। काल के प्रवाह में आगे चलकर वे हमारे परिवार से जुड़ेंगे, ऐसा हमें विश्वास है। यह बात अलग है कि कांग्रेस की प्रदेश इकाई इस दल-बदल से अपने को बेफिक्र बताने की कोशिश रही है और प्रदेश प्रभारी भंवर जितेंद्र सिंह तो यहां तक कह चुके हैं कि जिनको जाना है, वे जाएं।

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *