Thu. Apr 18th, 2024

गौ माता के हित में मोहन सरकार ने लिए फैसले, विपक्ष ने लगाया आरोप

सोमवार को हुई कैबिनेट बैठक में मध्यप्रदेश की मोहन सरकार ने एक महत्त्वपूर्ण फ़ैसला लिया है। दरअसल ये फ़ैसला सड़क पर घूमती लावारिस गायों के विषय में है। सरकार गौ माता को लेकर कई नए प्रावधान करने जा रही है। इसमें गौशालाओं को आत्मनिर्भर बनाने के साथ ही गौ माता की मृत्यु पर दाह संस्कार अनिवार्य किया जाएगा। ताकि उनके अवशेष कहीं अपमानित ना हो।

गौ माता का सम्मानजनक दाह संस्कार करवाएगी सरकार

बैठक में मुख्यमंत्री मोहन यादव ने कहा कि सड़कों पर होने वाली दुर्घटनाओं में गौ माता शिकार हो जाती हैं, अब ऐसी व्यवस्था की जाएगी कि यह सड़कों पर न दिखें। इसके लिए गौशालाओं के लिए राशि और मानदेय बढ़ाया जाएगा। यदि कहीं गौ माता की मृत्यु हो जाती है, तो उनके सम्मानजनक दाह संस्कार की व्यवस्था सरकार करेगी। गौ माता के अवशेष अपमानित न हों इसके लिए समाधि अथवा अन्य व्यवस्थाओं पर गंभीरता से ध्यान दिया जाएगा

फैसले पर विपक्ष ने लगाया आरोप

मध्यप्रदेश कांग्रेस के महामंत्री जेपी धनोपिया ने कहा कि बीजेपी सरकार में सालों से धर्म के नाम पर सिर्फ राजनीति की गई है। गौवंश की जितनी मौत बीजेपी सरकार में हुई उतनी कभी नहीं हुई। गौशालाओं का अनुदान के साथ गौ माता के चारे की राशि के नाम पर भी बीजेपी सरकार ने झूठ बोला। धनोपिया ने दावा किया कि प्रदेश में कमलनाथ सरकार में ही गौवंश संरक्षण के लिए ऐतिहासिक फैसले लिए गए। कांग्रेस शासनकाल के फैसलों पर भी सरकार अमल नहीं कर पाई। उधर, बीजेपी प्रदेश प्रवक्ता मिलन भार्गव ने कहा कि जब-जब धर्म से जुड़े मामलों पर सरकार निर्णय लेती है तो कांग्रेस के पेट में दर्द होता है। कांग्रेस को यह नहीं भूलना चाहिए कि गौवंश संरक्षण के लिए आंदोलन कर रहे संतों पर आखिर किस शासनकाल में लाठियां और गोलियां चलाई गई थीं।

By Srishti Jha

I'm Srishti Jha, a second-year Student pursuing BA in Journalism and Creative Writing Honours at Makhanlal Chaturvedi National University of Journalism and Communication in Bhopal. Passionate about content writing, I have a keen interest in various news genres and enjoy exploring new topics. Excited to contribute my creativity to the world of journalism and content creation.

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *